Home » इंटरनेशनल » First time Barak obama will visit an American Mosque
 

पहली बार अमेरिकी मस्जिद में जाएंगे बराक ओबामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:52 IST
QUICK PILL
  • रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप लगातार मुस्लिम समुदाय के खिलाफ टिप्पणी करते रहे हैं. माना जा रहा है कि ओबामा मस्जिद में प्रार्थना कर डोनाल्ड ट्रंप के चुनावी प्रचार का करारा जवाब देना चाहते हैं.
  • ओबामा ने अपने कार्यकाल में मुस्मिल देशों के साथ संबंधों को सुधारने पर विशेष जोर दिया है. हालांकि उनके कार्यकाल के दौरान आतंकी हमलों में हुई बढ़ोत्तरी ने विपक्ष को ओबामा पर हमला करने का मौका दे दिया है. 

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा बतौर राष्ट्रपति सात सालों के कार्यकाल में पहली बार अमेरिका की एक मस्जिद में जाएंगे. अमेरिका में अगले राष्ट्रपति को चुने जाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और इस दौरान रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप लगातार मुस्लिम समुदाय के खिलाफ टिप्पणी करते रहे हैं. माना जा रहा है कि ओबामा मस्जिद में प्रार्थना कर डोनाल्ड ट्रंप के चुनावी प्रचार का करारा जवाब देंगे. 

ओबामा के दादा ने इस्लाम कबूल कर लिया था. ओबामा पहली बार इस्लामिक सोसाएटी ऑफ बॉल्टीमोर मस्जिद में जाकर सांकेतिक तौर पर प्रार्थना करेंगे. इस दौरान वह मुस्लिम समुदाय के नेताओं से मुलाकात कर उन्हें संबोधित भी करेंगे. 

बराक ओबामा इससे पहले मलेशिया, इंडोनेशिया और मिस्र के मस्जिदों में जा चुके हैं

ओबामा इससे पहले मलेशिया, इंडोनेशिया और मिस्र के मस्जिदों में जा चुके हैं लेकिन अभी तक उन्होंने अमेरिका के किसी मस्जिद का दौरा नहीं किया था. अमेरिका में 2,000 से अधिक मस्जिदें हैं. 2009 में पहली बार राष्ट्रपति चुने जाने के बाद उन्होंने मिस्र की राजधानी काहिरा का दौरा कर मुस्लिम दुनिया के साथ नई शुरुआत के संकेत दिए थे. 

ओबामा की विदेश नीति का बड़ा हिस्सा मुस्लिम देशों के साथ संबंधों को सुधारने पर रहा है. हाल ही में अमेरिका ईरान के साथ परमाणु समझौता करने में सफल रहा है. इससे पहले परमाणु डील को लेकर अमेरिका और ईरान के बीच जबरदस्त तनाव था. अमेरिका ने इराक और अफगानिस्तान में भी युद्ध खत्म करने की घोषणा कर मुस्लिम देशों के बीच सकारात्मक संदेश देने की कोशिश की है.

हाल ही में अमेरिका ईरान के साथ परमाणु समझौता करने में सफल रहा है

हालांकि अफगानिस्तान, इराक, लीबिया, पाकिस्तान, सीरिया और यमन में बढ़ते आतंकी हमलों ने विपक्षी दल को ओबामा के खिलाफ हमला करने का मौका दे दिया है. 

रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने मुस्लिमों को अमेरिका में घुसने की अनुमति नहीं दिए जाने का मुद्दा उछालकर मतदाताओं को अपनी तरफ खींचने की कोशिश की है.

अमेरिका में करीब 33 लाख मुसलमान रहते हैं और 2015 में हिंसक हमलों में करीब 81 अमेरिकी मूल के मुस्लिम शामिल रहे हैं. ओबामा के मुस्लिम नेताओं के साथ भी बातचीत की संभावना है और माना जा रहा है कि इस दौरान वह युवाओं को कट्टरपंथ की गिरफ्त से बचाने के उपायों पर भी चर्चा करेंगे.

First published: 3 February 2016, 2:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी