Home » इंटरनेशनल » Former Pak PM Gilani's son rescued from Afghanistan
 

पाकिस्तान: पूर्व पीएम गिलानी का बेटा तीन साल बाद आजाद

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2016, 16:50 IST

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी के अगवा किए गए बेटे अली हैदर गिलानी को अफ़गानिस्तान में छुड़ा लिया गया है. तालिबानी आतंकियों ने नौ मई 2013 को हैदर को मुल्तान से अगवा किया था.

अफ़गान और अमेरिकी सुरक्षाकर्मियों के एक साझा ऑपरेशन के बाद हैदर गिलानी को आतंकियों के चंगुल से आजाद करा लिया गया.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए बयान में बताया गया है कि तीन साल बाद अली हैदर गिलानी को गजनी प्रांत से तालिबान आतंकवादियों से मुक्त करा लिया गया है.

मई 2013 में हुआ था अगवा


अफगानिस्तान सरकार के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोहम्मद हानिफ अतमार ने टेलीफोन पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज को बताया कि पूर्व पीएम यूसुफ रजा गिलानी के पुत्र अली हैदर गिलानी को सकुशल बचा लिया गया है.

पाकिस्तानी अधिकारियों का कहना है कि मेडिकल जांच के बाद उन्हें पाकिस्तान भेज दिया जाएगा.

वहीं पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो ने एक ट्वीट में जानकारी दी कि गिलानी को एक कामयाब ऑपरेशन में बचाया गया.

अली हैदर गिलानी को तीन साल पहले मुल्तान में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के चुनाव प्रचार के दौरान अगवा कर लिया गया था. बाइक पर सवार दो हमलावरों ने पंजाब के मुल्तान में गिलानी के काफिले पर हमला किया था.

bilawal

मार्च में पूर्व गवर्नर का बेटा आजाद

इस हमले में अली हैदर गिलानी के सचिव और एक बॉडीगार्ड की मौत हो गई थी, जबकि चार लोग घायल हो गए थे. हमलावर एक काली होंडा कार में अली हैदर को लेकर फरार हो गए थे.

पिछले साल मई में अली हैदर ने अपने पिता पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को फोन किया था और बताया था कि वह सकुशल हैं. अली हैदर गिलानी युसुफ़ रज़ा गिलानी के सबसे छोटे पुत्र हैं. यूसुफ़ रज़ा गिलानी 2008 से 2012 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रहे थे. 

पाकिस्तान में चरपमंथी गुटों का पैसों के लिए अगवा कर लेना आम बात है. इसी साल मार्च में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के पूर्व गवर्नर सलमान तासीर के अगवा बेटे शाहबाज़ तासीर को ज़िंदा बचाया गया था. 

वह पांच साल तक आतंकियों की कैद में रहे थे. शाहबाज तासीर ने हैदर गिलानी की रिहाई का स्वागत किया है.

First published: 10 May 2016, 16:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी