Home » इंटरनेशनल » Tribute to Charlie Hebdo & Jewish shop victims in France
 

शार्ली एब्दो की बरसी: दुनिया भर में श्रद्धांजलि की तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 January 2016, 23:17 IST
QUICK PILL
  • शार्ली एब्दो के दफ्तर में बीते सात जनवरी को दो इस्लामिक चरमपंथियों ने उस वक्त हमला बोल कर ताबड़तोड़ गोलीबारी की थी जब वहां संपादकीय बैठक चल रही थी. इसमें टैबलॉयड के कई वरिष्ठ संपादकीय कर्मी गोलियों से छलनी हो गए थे. 
  • मंगलवार को राष्ट्रपति फ्रांसुवा ओलांद जनवरी में हुए हमलों वाली जगहों पर आयोजित होने वाले सादे समारोह में इसके स्मारक का अनावरण करेंगे.

फ्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका शार्ली एब्दो पिछले साल सात जनवरी को अपने दफ़्तर पर हुए आतंकी हमले की बरसी पर एक विशेष अंक प्रकाशित करेगी. जिसमें इसके पहले पन्ने पर क्रोधित ईश्वर की तस्वीर बनाते हुए उनके हाथों को खून से सना और पीठ पर क्लाश्निकोव राइफल टांगे हुए दिखाया गया है. इसकी हेडलाइन है, "एक साल बाद, हत्यारा अब भी दौड़ रहा है."

इसके अलावा पूरे फ्रांस और दुनिया के दूसरे हिस्सों में भी शार्ली एब्दो हमले में मारे गए पत्रकारों को श्रद्धांजलि देने और आतंकवाद के खिलाफ एकजुटता का संदेश देने की तैयारी है.

बुधवार को आने वाले शार्ली के आगामी अंक के बारे में जारी एक संपादकीय में कहा गया है कि धार्मिक अतिवादियों की हमें खत्म करने की चाहत के बावजूद यह पत्रिका जारी रहेगी. इसमें घोषणा की गई है, "वे शार्ली का खात्मा नहीं कर पाएंगे, लेकिन इस कोशिश में वे खुद खत्म हो जाएंगे."

पेरिस स्थित शार्ली एब्दो के दफ्तर और एक यहूदी सुपरमार्केट पर 2015 में हुए इस्लामिक चरमपंथियों के हमले में 17 लोग मारे गये थे. पेरिस में पिछले साल नवंबर में आतंकी हमला हुआ था जिसमें 130 लोगों की जानें गई थीं.

इस मौके पर फ्रांस में कई आयोजन किए जा रहे हैं. मारे गये लोगों की याद में कई गीत, स्मृति पत्र और व्यंगात्मक धार्मिक कार्टून बनाए गए हैं.

राजनीतिक और धार्मिक नेताओं का मजाक उड़ाते कार्टून और व्यंगात्मक शैली के लिए पहचाने जाने वाले शार्ली एब्दो के दफ्तर में सात जनवरी को दो इस्लामिक चरमपंथियों ने उस वक्त हमला बोल कर ताबड़तोड़ गोलीबारी की थी जब वहां संपादकीय बैठक चल रही थी. इसमें टैबलॉयड के कई वरिष्ठ संपादकीय कर्मी गोलियों से छलनी हो गए थे. 

रविवार को 72 वर्षीय फ्रांसीसी रॉक स्टार जॉनी हैलीडे यहां पर अपना गाना "अ संडे इन जनवरी" गाएंगे

वहीं, अगले दिन दूसरे चरमपंथियों ने एक पुलिसकर्मी की हत्या कर दी और बंधकों को हाईपरकैचर सुपरमार्केट ले गए. जहां 9 जनवरी को इन बंधकों में से चार की हत्या कर दी गई. इसके बाद पुलिस कार्रवाई में यह चरमपंथी मारे गए.

अन्य पुलिसकर्मियों ने शार्ली एब्दो दफ्तर पर हमला करने वाले एक हमलावर को पेरिस के उत्तर में स्थित प्रिंटिंग प्लांट में घेर लिया और उसे उसी दिन दोपहर में मार गिराया.

इन हमलों ने दुनिया भर को एकजुट होकर आंदोलन के लिए प्रेरित किया. इसके बाद "जे सुइस शार्ली या मैं शार्ली हूं" जैसे नारे सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. इसके बाद 13 नवंबर को हुए दूसरे हमले में इस्लामिक उग्रवादियों ने पेरिस कैफे, कंसर्ट हॉल में तमाम लोगों को मार डाला और स्टेडियम पर हमला कर दिया.

ओलांद समारोह की अध्यक्षता करेंगे और स्मारक स्वरूप एक 10 मीटर ओक (शाहबलूत) वृक्ष लगाया जाएगा

मंगलवार को राष्ट्रपति फ्रांसुवा ओलांद जनवरी में हुए हमलों वाली जगहों पर आयोजित होने वाले सादे समारोह में स्मारक शिलाओं का अनावरण करेंगे. इस दौरान पीड़ित परिजन और सरकारी अधिकारी मौजूद रहेंगे. जबकि शनिवार को वो इस हमले में मारी गई महिला पुलिसकर्मी की स्मृति में बनाई गए एक अन्य स्मारक का अनावरण करेंगे.

रविवार को प्लेस डी ला रिपब्लिक पर एक विशाल सार्वजनिक समारोह की योजना बनाई गई है. पूर्वी पेरिस स्थित इस स्थान पर हमलों के बाद अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और लोकतांत्रिक मूल्यों के पक्ष में निकली रैलियों में हजारों लोगों ने हिस्सा लिया था. इसके बाद यह एक अनौपचारिक स्मारक बन गया. इस दौरान ओलांद समारोह की अध्यक्षता करेंगे और स्मारक स्वरूप एक 10 मीटर ओक (शाह बलूत) वृक्ष लगाया जाएगा.

रविवार को 72 वर्षीय फ्रांसीसी रॉक स्टार जॉनी हैलीडे यहां पर अपना गाना "अ संडे इन जनवरी" गाएंगे. यह गाना जनवरी 2015 के हमलों के बाद फ्रांस के तमाम शहरों में विरोध दर्ज कराने निकले लाखों लोगों पर बनाया गया है. 

फ्रांसीसी समाज के विभिन्न समूहों को नववर्ष की पारंपरिक बधाई देने के रूप में गुरुवार को सुरक्षा बलों के सदस्यों को संबोधित करने के लिए ओलांद के भी आने की योजना है. 

First published: 5 January 2016, 23:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी