Home » इंटरनेशनल » German doctor arrested on suspicion of killing two Covid patients
 

कोरोना का इलाज कराने गया था युवक, अस्पताल में डॉक्टर ने किया ऐसा काम, जानकर हैरान हो जाएंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 November 2020, 0:02 IST

कोराना वायरस से संक्रमित होने के बाद जर्मनी में बीते दिनों दो युवकों की मौत हो गई थी. इन युवकों की मौत रहस्यमयी परिस्थिति में हुई थी. वहीं अब इस मामले में पुलिस ने उस डॉक्टर को गिरफ्तार किया है जिन्होंने इन युवकों को ईलाज किया था. पुलिस की मानें तो डॉक्टर ने इन्हें एक गलत इंजेक्शन दिया जिसके बाद उन दोनों की जान चली गई. पुलिस ने आगे बताया कि डॉक्टर ने ऐसा इन लोगों को हो रहे असहनीय पीड़ा से मुक्त कराने के लिए किया था. जर्मनी में इच्छा मृत्यु का प्रावधान है. हालांकि, ऐसे मामले के लिए कोर्ट से परमिशन लेनी पड़ती है. वहीं इस मामले को लेकर अभी तक यह साफ नहीं है कि क्या इच्छा मृत्यु के लिए कोर्ट से से से परमिशन ली गई थी या नहीं.

द गार्डियन की रिपोर्ट के अनुसार, जर्मन पुलिस ने पश्चिमी शहर एसेन में एक वरिष्ठ डॉक्टर के खिलाफ दो गंभीर रूप से बीमार कोरोनोवायरस रोगियों की मौत पर हत्या की जांच शुरू की है. रिपोर्ट में दावा है कि इन दोनों को घातक इंजेक्शन दिए गए थे.


एसेन पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि 44 वर्षीय डॉक्टर, जो फरवरी से एसेन विश्वविद्यालय के अस्पताल में काम कर रहा था, उस पर 47 और 50 वर्ष की आयु के दो लोगों की हत्या करने की आशंका है. खबर के अनुसार, इन दोनों को कोरोना ने अपना शिकार बनाया था और दोनों गंभीर अवस्था में आईसीयू में भर्ती थे.

पुलिस की मानें को उन्होंने बुधवार को डॉक्टर को गिरफ्तार किया है और डॉक्टर ने पूछताछ के दौरान यह कबूला है कि उसने दों में से एक व्यक्ति को जानलेना इंजेक्शन लगाया था. डॉक्टर ने बताया कि वह रोगी और उसके रिश्तेदारों को और अधिक दर्द में नहीं देखना चाहता था. कुछ स्थानिय मीडिया रिपोर्ट की मानें तो डॉक्टर ने इंजेक्शन लगाने से पहले मरीजों के परिवारों को सूचित किया. वहीं इस मामले में एसेन अस्पताल ने कहा है कि डॉक्टर को निलंबित कर दिया गया है.

पार्टी के दौरान खत्म हो गई शराब तो लोगों ने पीना शुरू कर दिया हैंड सैनिटाइजर, तड़प-तपड़ कर तीन ने मौके पर ही तोड़ा दम

First published: 21 November 2020, 20:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी