Home » इंटरनेशनल » Giant Murder Hornets Officially Spotted in The US it threats to bees and human
 

कोरोना वायरस के बाद अमेरिका में ये जहरीली मक्खी मचा सकती है तबाही, लोगों में फैला खौफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2020, 15:10 IST

Giant Murder Hornets sportted in US: कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रकोप से जूझ रहे अमेरिका (America) पर अब एक और बिन बुलाए मेहमान का खतरा मंडरा रहा है. जो कोरोना के बाद अमेरिका में सबसे अधिक तबाही मचा सकता है. दरअसल, अमेरिका के कुछ इलाकों में हाल ही में मुधमक्खी की तरह दिखने वाली एक जानलेवा मक्खी (Hornets) नजर आई है. जो मधुमक्खियों से आकार में पांच गुना ज्यादा होती है.

खबरों के मुताबिक, ये मक्खी अमेरिका के वेस्ट कोस्ट इलाके में नज़र आई हैं. सबसे बड़ी चिंता की बात ये है कि ये न सिर्फ आकार में बड़ी हैं बल्कि जहरीली भी हैं. इसके काटने से इंसान की मौत भी हो जाती है. ऐसा माना जाता है कि इसके काटने से दुनियाभर में हर साल करीब 60 लोगों की जान चली जाती है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, ये हॉरनेट एशिया के भारी बारिश और उमस वाले जंगलों में पाई जाती है और वियतनाम जैसे ट्रॉपिकल मौसम के अनुकूल होती है. इसका अमेरिका में दिखाई देना काफी आश्चर्यजनक माना जा रहा है. इन मक्खियों के पंखों का फैलाव तीन इंच से ज्यादा होता है और ये खतरनाक जहर न्युट्रोक्सिन से लैस होती हैं.


बीते दिनों मधुमक्खी मापने वाले कॉनराड बेर्ब्यु नाम के एक शख्स को वेनकोवर आइलैंड पर इनके एक छत्ते को नष्ट करने के लिए भेजा गया था, लेकिन उसे कई बार इन मक्खियों ने काट लिया. 'द मिरर' की रिपोर्ट के मुताबिक इन मक्खियों की ख़बरें सामने आने के बाद इलाके के लोग इन्हें दैवीय आपदा मान रहे हैं और इनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर इन्हें कोरोना के बाद ईश्वर की एक और सजा बता रहे हैं.

कोरोना वायरसः दुनियाभर में मरने वालों का आंकड़ा दो लाख 48 हजार के पार, भारत में 1,391 की मौत

कॉनराड ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि वे पूरी तैयारी के साथ गए थे, इसलिए उन्होंने वक्त पर खुद ही अपना इलाज कर लिया. यही नहीं उन्होंने इन मक्खियों का छत्ता भी नष्ट कर दिया. कॉनराड बताते हैं कि जब उन्होंने डंक मारा तो मुझे लगा कि शरीर में किसी ने गरम किसी चीज को भर दिया हो. फिलहाल कॉनराड ठीक हैं लेकिन अभी भी उन्हें चलने में दिक्कत हो रही है और पैरों में काफी दर्द है.

Coronavirus : WHO है चीन की पीआर एजेंसी, खुद पर आनी चाहिए शर्म : डोनाल्ड ट्रंप

वहीं दूसरी ओर एंटोमॉलोजिस्ट का कहना है कि ये मक्खियां इंसानों से ज्यादा शहद बनाने वालीं मधुमक्खियों के लिए खतरनाक है. बीते महीने ब्रिटेन में भी इसी तरह की हॉरनेट दिखाई दी थी. उनसे निपटने के लिए करीब 70 करोड़ रुपये का खर्च आया था. ऐसे में अगर अमेरिका में इस मक्खी का प्रकोप बढ़ता है तो उसे और अधि पैसा खर्च करना पड़ेगा. बता दें कि इन मक्खियों को इससे पहले साल 2004 में यूरोप के कुछ देशों में देखा गया था. लेकिन तब इनकी संख्या काफी कम थी.

यहां पर बिक रहा चांद का टुकड़ा, खरीदने के लिए चुकाने पड़ेंगे इतने रुपये

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का दावा, इस साल के अंत तक बना लेंगे कोरोना की वैक्सीन

First published: 4 May 2020, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी