Home » इंटरनेशनल » headley: when my father died pak pm gilani came to my house
 

डेविड हेडली: पिता की मृत्यु पर पाक पीएम गिलानी मेरे घर आए थे

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2016, 13:43 IST

26/11 मुंबई हमलों के सिलसिले में अमेरिका की शिकागो स्थित जेल में सजा काट रहे भारत के वादामाफ गवाह डेविड हेडली ने मुंबई की स्पेशल कोर्ट को ऐसी बात बात बताई जिससे पाकिस्तान की सरकार के लिए शर्मनाक स्थित उत्पन्न हो गई है. 

हेडली ने पूछताछ में बताया कि जब उसके पिता का निधन हुआ था, तब मातमपुर्सी के लिए पाकिस्‍तान के तत्‍कालीन प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी उसके घर आए थे.

पढ़ें: मुंबई हमला: डेविड कोलमैन हेडली के 5 अहम खुलासे

इसके साथ हेडली ने कोर्ट को यह भी बताया कि लश्कर-ए-तैयबा तत्कालीन शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे की हत्‍या करना चाहता था, लेकिन जिस आदमी को इसे अंजाम देना था, उसे मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

हेडली ने यह बात अबू जुंदाल के वकील अब्दुल वहाब खान के सवालों के जवाब में कही. गौरतलब है कि जुदांल साल 2008 में हुए मुंबई हमले का मास्टर माइंड माना जाता है. हेडली ने अपने बयान में कहा कि हम बाल ठाकरे को मारने की कोशिश में थे.

हेडली ने जुंदाल के खिलाफ मुंबई हमलों के मामले में सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश जीए सनप को यह भी बताया कि उसे यह जानकारी नहीं है कि भारत में ठाकरे के अलावा लश्कर के टार्गेट पर कौन-कौन था.

पढ़ें: जानिए 'इशरत जहां' के बारे में क्या-क्या कहा डेविड हेडली ने

हेडली ने बताया कि मुम्बई आतंकवादी हमले से दो साल पहले साल 2006 तक लश्कर को करीब 70 लाख रुपये दान में दिए थे. इसके साथ ही हेडली ने जोर देते हुए कहा कि उसे लश्कर से कभी कोई धन नहीं दिया गया.

अमेरिका में 35 साल की जेल की सजा काट रहे हेडली ने अपनी पत्नी शाजिया के बारे में किसी भी तरह के सवालों का जवाब देने से साफ इनकार कर दिया. हेडली ने कहा कि शाजिया अब भी कानूनी रूप से मेरी पत्नी है और मैं अपनी पत्नी के बारे में किसी भी सवाल का जवाब नहीं देना चाहता.

पढ़ें: हेडली के बयान से पाकिस्तान पर कोई असर होगा?

लेकिन जब अबु जुंदाल के वकील अब्दुल वहाब खान ने हेडली से पत्नी शाजिया के बारे में सवाल करते रहे तो सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने मामले में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि भारत साक्ष्य कानून की धारा 122 के तहत पति और पत्नी के बीच में हुई बातचीत को जाहिर करने की जरूरत नहीं होती है.

हेडली ने इससे पहले अपनी गवाही में बताया था कि जैश-ए-मोहम्मद और हिज्बुल मुजाहिदीन ने किस तरह से मुम्बई हमले की योजना बनाई थी और साथ ही इस बात का भी खुलासा किया था कि गुजरात में हुए कथित फर्जी मुठभेड़ में मारी गई इशरत जहां लश्कर की आतंकी थी.

First published: 25 March 2016, 13:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी