Home » इंटरनेशनल » hillary clinton: trump doesn't deserve to become president of america
 

हिलेरी क्लिंटन दूसरी बहस: महिलाओं के अपमान पर ट्रंप को घेरा हिलेरी क्लिंटन ने

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2016, 9:36 IST
(एजेंसी)

अमेरिका राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी से उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन के बीच दूसरी सार्वजनिक बहस दिलचस्प मोड़ पर है.

बहस के दौरान डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के द्वारा महिलाओं के बारे में की अभद्र टिप्पणी पर खुब खरी-खोटी सुनाई. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर तीन में से दूसरी बहस सेंट लुईस में हो रही है.

परंपरा के विपरीत ट्रंप और हिलेरी ने बिना हाथ मिलाए ही बहस की शुरुआत की. हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बनने लायक ही नहीं हैं. वहीं ट्रंप दिखाए गए वीडियो पर शर्मिंदा भी हुए.

गौरतलब है कि यह बहस ट्ंप के एक पुराने वीडियो के साए में शुरू हुई है. यह वीडियो वाशिंगटन पोस्ट ने शनिवार को जारी किया था जिसमें ट्रंप महिलाओं के बारे में बेहद अश्लील बातें कर रहे थे. हालांकि उन्होंने इस पर तुरंत माफी मांगी थी.

हिलेरी क्लिंटन ने उन पर निशाना साधते हुए कहा कि ट्रंप को देश से और महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए. इसके जवाब में ट्रंप ने कहा कि मैं महिलाओं का बहुत सम्मान करता हूं. मैं अमेरिका को बेहतर और अधिक सुरक्षित बनाऊंगा.

क्लिंटन ने कहा हमने कई बार डोनाल्ड ट्रंप को महिलाओं का अपमान करते देखा है. हिलेरी ने कहा कि विदेश मंत्री होने के नाते निजी ईमेल अकाउंड इस्तेमाल करना मेरी गलती थी. हिलेरी के इस स्विकारोक्ति के बाद ट्रंप ने कहा कि मुझे राष्ट्रपति चुना गया तो मैं हिलेरी के ईमेल्स की जांच कराऊंगा.

गौरतलब है 2005 में महिलाओं के बारे में ट्रंप के आपत्तिजनक बयान सामने आने के बाद उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार माइक पेंस ने ट्रंप की कड़ी आलोचना की है.

यह मामला शुक्रवार को उस समय सामने आया जब वॉशिंगटन पोस्ट ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें ट्रंप को महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए दिखाया गया था. इसके बाद ट्रंप ने एक बयान जारी करके अपने बयान पर खेद जताते हुए माफी भी मांगी थी.

बहस की बातें बिंदुवार

ओबामा केयर

हिलेरी ने सबकी पहुंच में आने वाले स्वास्थ्य व्यवस्था 'अफोर्डेबल केयर एक्ट' को मजबूत करने की बात कही. उनकी सबसे पहली प्राथमिकता यही होगी. इसकी प्रीमियम की दरों को नीचे लाने पर वे काम करेंगी.

मौजूदा राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा शुरू की गई इस योजना 'ओबामा केयर' को बचाए रखना उनकी कोशिश होगी. उन्होंन कहा कि इसको कमजोर करने से स्वस्थ्य व्यवस्था में मिलने वाली सुविधाएं खत्म हो जाएंगी.

दूसरी तरफ डोनल्ड ट्रंप ने ओबामा केयर की आलोचना की. ट्रंप के मुताबिक ओबामा केयर एक दुर्घटना है और अगर वे राष्ट्रपति बने तो इसे बंद कर देंगे.

महिलाओं पर राय

हिलेरी क्लिंटन ने ट्रंप के उस वीडियो की चर्चा की जिसमें वो महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक बातें कहते हुए देखे गए. हिलेरी ने कहा कि यह वीडियो सबूत है कि डोनल्ड ट्रंप राष्ट्रपति पद के योग्य नहीं हैं.

इस पर ट्रंप ने माफी की मुद्रा में कहा, 'मैं अपने उन शब्दों के लिए माफ़ी मांगता हूं. मुझे अपने बयान को लेकर कोई गर्व नहीं है और इसको लेकर शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं. लेकिन वह एक बंद कमरे में हुई बातचीत थी.'

उन्होंने कहा कि उनके मन में महिलाओं को लेकर बहुत सम्मान है. ट्रंप ने डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के पति और अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन को और भी बुरा व्यक्ति बताया.

क्लिंटन के ईमेल

रिपब्लिकन उम्मीदवार ने हिलेरी क्लिंटन के विदेश मंत्री के कार्यकाल में हुए ईमेल का मुद्दा उठाया और कहा कि आपको इसको लेकर शर्म आनी चाहिए.

इस पर हिलेरी ने ईमेल को मिटाने को लेकर अपनी भूल स्वीकार की. उन्होंने कहा कि वो इसकी जिम्मेदारी लेती हैं. उन्होंने कहा कि इससे कोई भी क्लासीफाइड फाइल सार्वजनिक नहीं हुई और कोई भी जानकारी ग़लत हाथों में नहीं गई.

रूस पर आरोप

हिलेरी क्लिंटन ने आरोप लगाया कि रूस चुनाव परिणामों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा कि रूस इस बात की कोशिश कर रहा है कि ट्रंप चुनाव जीत जाएं. इस पर ट्रंप ने कहा कि वो पुतिन को नहीं जानते हैं. उन्होंने कहा कि वो अपने चुनाव अभियान के लिए पुतिन सरकार के साथ मिलकर काम नहीं कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि यह अच्छा होगा कि अमरीका तथाकथित इस्लामिक स्टेट (आईएस) को हराने के लिए रूस के साथ मिलकर काम करें.

इराक़ में हस्तक्षेप

ट्रंप ने लीबिया, सीरिया और इराक़ में हस्तक्षेप को लेकर क्लिंटन के फैसले की आलोचना की. ट्रंप ने 2012 में बेनगाज़ी में अमरीकी वाणिज्य दूतावास पर हुए हमले का जिक्र किया.

क्लिंटन ने कहा कि वो सीरिया में सेना के इस्तेमाल का समर्थन नहीं बल्कि स्पेशल फ़ोर्सेज को भेजने की समर्थक हैं, जो कि अभी वहां हैं. उन्होंन कहा कि वो आईएस नेता अबु बकर अल बगदादी को निशाना बनाएंगी.

First published: 10 October 2016, 9:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी