Home » इंटरनेशनल » hina rabbani: on battlefield pakistan not defeat to india
 

हिना रब्बानी: पाकिस्तान जंग में नहीं जीत पाएगा कश्मीर

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2016, 15:18 IST
(एजेंसी)

पाकिस्तान की पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने कहा है कि पाकिस्तान जंग के जरिए भारत से कभी कश्मीर को हासिल नहीं कर पाएगा.

इस्लामाबाद में उन्होंने कहा कि कश्मीर मसले को केवल भारत के साथ आपसी भरोसा कायम करके ही आगे बढ़ाया जा सकता है.

खार ने कहा, "मेरा मानना है कि पाकिस्तान कश्मीर को जंग के जरिए तो कभी हासिल नहीं कर पाएगा. अगर हम ऐसा नहीं कर सकते, तो हम लोगों के पास केवल एक ही विकल्प बचता है और वह है बातचीत.

हम केवल संवाद के जरिए ही हालात को सामान्य बना सकते हैं और आपसी भरोसे में जान भर सकते हैं."

पाकिस्तानी टीवी चैनल जियो न्यूज के कार्यक्रम 'जिरगा' में हिना रब्बानी खार ने कहा, "दोनों मुल्कों के बीच कश्मीर समस्या को केवल बातचीत के जरिए ही सुलझाया जा सकता है. हम बातचीत के जरिए एक न एक दिन मुकाम पर पहुंच सकते हैं."

साथ ही खार ने कहा, "दोनों देशों के बीच प्रतिकूल वातावरण में मसलों को अंजाम तक नहीं पहुंचाया जा सकता. जब पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी सत्ता में थी, तब उसने भारत के साथ संबंधों को सामान्य बनाने की कोशिश की.

हमारी सरकार ने ऐसा गठबंधन सरकार होने के बावजूद किया. हमने वीजा नियमों में ढील दी और व्यापारिक संबंधों को आगे बढ़ाया."

हिना रब्बानी खार 2011 से 2013 तक पाकिस्तान की विदेश मंत्री रह चुकी हैं.

पाकिस्तान की विदेश नीति में सेना के दखल के बारे में खार ने कहा, "विदेश नीति राजनयिक मामला होता है और उसे उसके हिसाब से आगे बढ़ाया जाना चाहिए. सेना को वहां अपनी भूमिका अदा करनी चाहिए, जहां उसकी प्रासंगिकता हो."

कश्मीर विवाद पर खार ने कहा, "पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने अपने कार्यकाल में भारत को कश्मीर मामले में काफी छूट दी थी. आज के हालात में विदेश मंत्रालय एक राजनीतिक ऑफिस का रूप ले चुका है."

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए खार ने कहा, "यहां स्थिति इतनी खराब है कि विदेश मंत्रालय इन दिनों दूसरे देशों के नेताओं की ओर से भेजे गए फूल बीमार नवाज शरीफ तक पहुंचाने का काम कर रहा है. पाकिस्तान की मौजूदा विदेश नीति एक्शन नहीं रिएक्शन की है."

पाकिस्तान की पूर्व विदेश मंत्री ने कहा, "पाकिस्तान अपनी दिशा की तरफ नहीं बढ़ रहा है, बल्कि वह हालात बिगड़ने पर प्रतिक्रिया देने का काम कर रहा है. 60 सालों में हमने अपने बच्चों को यही सिखाया है कि हमारी राष्ट्रीय पहचान किसी से नफरत करना है."

First published: 27 June 2016, 15:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी