Home » इंटरनेशनल » HM Rajnath Singh's speech at SAARC conference blacked out. No media allowed to cover speech
 

इस्लामाबाद: भाषण के ब्लैक आउट पर बिफरे राजनाथ, रद्द किया लंच

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 August 2016, 16:19 IST
(फाइल फोटो)

सार्क सम्मेलन के दौरान पाकिस्तान की एक और करतूत बेनकाब हुई है. सार्क देशों के गृह मंत्रियों के सम्मेलन में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हिस्सा लिया, लेकिन इस दौरान जब उनके भाषण की बारी आई तो मीडिया को कवरेज से रोक दिया गया.

राजनाथ सिंह के भाषण का पाकिस्तान के किसी टेलीविजन चैनल पर प्रसारण नहीं हुआ. सार्क कॉन्फ्रेंस के दौरान राजनाथ के संबोधन को ब्लैक आउट कर दिया गया. किसी मीडिया संस्थान को उनके भाषण के कवरेज की इजाजत नहीं दी गई. 

दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस रद्द

वहीं सार्क सम्मेलन के लंच के दौरान पाकिस्तानी गृह मंत्री चौधरी निसार अहमद भी गैर हाजिर रहे, जबकि वह खुद इसके मेजबान थे. पाकिस्तान के रवैए से बिफरे राजनाथ सिंह ने भी लंच में शिरकत नहीं की.

इस बीच राजनाथ सिंह की आज इस्लामाबाद से लौटकर दिल्ली एयरपोर्ट पर प्रस्तावित प्रेस कॉन्फ्रेंस भी रद्द कर दी गई है. बिना लंच में शामिल हुए राजनाथ सिंह इस्लामाबाद से दिल्ली के लिए रवाना हो गए.

पढ़ें: इस्लामाबाद: सार्क सम्मेलन में राजनाथ ने आतंकवाद को बताया सबसे बड़ा खतरा

सार्क सम्मेलन के दौरान केवल पाकिस्तान के सरकारी पीटीवी को उद्घाटन भाषण के कवरेज की इजाजत दी गई. इस दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और आंतरिक मंत्री का ही भाषण प्रसारित हुआ. पाकिस्तान के किसी निजी चैनल को भी संबोधन के प्रसारण की इजाजत नहीं मिली.

आतंक पर राजनाथ की खरी-खरी

इस्लामाबाद में चल रहे सार्क सम्मेलन में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आतंकवाद का मुद्दा उठाया. मंत्रीस्तरीय सार्क सम्मेलन में राजनाथ सिंह ने आतंकवाद को सबसे बड़ा खतरा करार दिया है.

राजनाथ ने कहा कि अब आतंकवाद का खात्मा बेहद जरूरी हो गया है. साथ ही गृह मंत्री ने काबुल, ढाका और पठानकोट में हुए आतंकी हमलों का भी इस दौरान जिक्र किया.

राजनाथ सिंह ने सार्क सम्मेलन के दौरान कहा, "अच्छा-बुरा आतंकी कुछ नहीं होता. आतंकियों का महिमामंडन नहीं होना चाहिए. आतंकियों की सिर्फ निंदा ही काफी नहीं है. एक देश का आतंकी दूसरे देश का शहीद कैसे हो सकता है?"

राजनाथ सिंह ने इस दौरान आतंकवाद को संरक्षण देने वाले देशों को निशाने पर लिया. राजनाथ ने कहा कि आतंक के हमदर्द देशों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.

First published: 4 August 2016, 16:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी