Home » इंटरनेशनल » Hollywood Actress Angelina Jolie now appointed as Professor in London School of Economics
 

एंजेलिना जॉली बनीं लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में प्रोफेसर

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 17:14 IST

हॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री, ऑस्कर विजेता, राजनीतिक प्रचारक और कई महत्वपूर्ण संगठनों में सक्रिय भूमिका निभाने वाली एंजेलिना जॉली अब अकादमिक क्षेत्र में भी वास्तविक किरदार निभाती नजर आएंगी. लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स की वेबसाइट पर यह जानकारी साझा की गई.

ब्रिटेन की प्रसिद्ध यूनिवर्सिटीज में से एक लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स ने अब एंजेलिना (40) को विजिटिंग प्रोफेसर नियुक्त किया है. वो पूर्व विदेश सचिव विलियम हेग के साथ यूनिवर्सिटी के महिला, शांति और सुरक्षा केंद्र में बतौर लेक्चरर मास्टर्स डिग्री के स्टूडेंट्स को पढ़ाएंगी. 

जानेंः किस यूनिवर्सिटी में होती है दुनिया की सबसे महंगी पढ़ाई

संयुक्त राष्ट्र रेफ्यूजी एजेंसी के विशेष राजदूतों में शामिल और पूर्व गुडविड एंबैसडर एंजेलिना शरणार्थियों के अधिकारों की मुखर प्रचारक रहने के साथ ही महिला जननांगों के खतने और युद्ध में महिलाओं के साथ बलात्कार को हथियार बनाए जाने जैसी समस्याओं की खिलाफत करती आई हैं.

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में नियुक्ति के दौरान एंजेलिना जॉली. (न्यूजऑफबहरीन डॉट कॉम)

एंजेलिना ने कहा, "इस मास्टर्स प्रोग्राम के बनाए जाने पर मैं बहुत उत्साहित हूं. मुझे उम्मीद है कि अन्य अकादमिक संस्थान भी इस उदाहरण का पालन करेंगे, क्योंकि महिला अधिकारों को कैसे बढ़ाएं इस पर चर्चा बढ़ाना और युद्ध में यौन हिंसा जैसे अधिकतर महिलाओं को प्रभावित करने वालेे अपराधों पर दंड मुक्ति को खत्म किया जाना बहुत जरूरी है."

उन्होंने यह भी कहा, "मैं पढ़ाने और स्टूडेंट्स से सीखने के साथ ही संयुक्त राष्ट्र और सरकारों के साथ काम करने के दौरान पाए अनुभव को साझा भी करूंगी."

जानेंः 10 मुल्कों की मुद्राएं और उन पर छपीं मशहूर महिलाएं

दो साल पहले एंजेलिना के साथ युद्ध में यौन हिंसा की समाप्ति पर चार दिवसीय सम्मेलन की मेजबानी करने वाले लॉर्ड हेग ने कहा कि वे इससे प्रसन्न हैं.

उन्होंने कहा, "यह पाठ्यक्रम युद्ध में यौन हिंसा को समाप्त किए जाने के हमारे काम को और मजबूत करेगा, विशेषज्ञता को विकसित करेगा और दंड मुक्ति की परंपरा से निपटने के अध्ययन में सहायता देगा. मैं लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के छात्रों और साथी विजिटिंग प्रोफेसर के साथ काम करने को तत्पर हूं."

इस एक साल के पाठ्यक्रम में महिला, शांति और सुरक्षा, लिंग और सैन्यीकरण एवं लिंग एवं मानवाधिकारों को शामिल किया जाएगा.

पढ़ेंः इन छह अपराधियों को दी गईं हजारों साल की सजा

हाल ही में शरणार्थी संकट और यूरोपीय सरकार के इससे निपटने में असफल रहने पर एंजेलिना काफी मुखर थीं.

वहीं, लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स ने एमनेस्टी इंटरनेशनल जिनेवा में डायरेक्टर ऑफ इंटरनेशनल एडवोकेसी जेन कॉनर्स और वीमेंस इंटरनेशनल लीग फॉर पीस एंड फ्रीडम की महासचिव मैडेलीन रीस ओबे को भी गेस्ट फैकल्टी के रूप में नियुक्त किया है.

First published: 25 May 2016, 17:14 IST
 
अगली कहानी