Home » इंटरनेशनल » Trump stripped Huawei's Mate 30 Pro phone from apps like YouTube, Chrome
 

बिना Google Apps के लॉन्च होगा Huawei का Mate 30 Pro, ट्रंप ने दिया झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 August 2019, 13:09 IST

अमेरिका और चीन के बीच चल रहे व्यापार युद्ध की मार अब चीन की दिग्गज कंपनी हुआवेई टेक्नोलॉजीज को पड़ने वाली है. Google का कहना है कि Huawei फ्लैगशिप के नए फोन के पास Google ऐप्स का लाइसेंस नहीं है. हुआवेई अगले महीने अपने नए मेट 30 प्रो फोन को लॉन्च करने जा रही है. यह ऐसा पहला फोन होगा जिपर असर पड़ेगा क्योंकि कंपनी को अमेरिका द्वारा ब्लैकलिस्ट किया गया था.

ट्रंप प्रशासन ने कई बार संकेत दिया कि वह हुआवेई पर प्रतिबंधों को कम करेगा लेकिन Google ने अब कहा है कि उसके लाइसेंस वाले ऐप इस डिवाइस पर उपलध नहीं होंगे. माना जा रहा है कि बिना गूगल ऐप के हुआवेई के इस फोन की बिकती पर बड़ा असर पड़ेगा. ब्लूमबर्ग न्यूज ने जून में बताया कि ब्लैक लिस्ट करने से विदेशी बिक्री में 40 फीसदी से 60 फीसदी की गिरावट आ सकती है.

 

हुआवेई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस महीने के प्रतिबंध से राजस्व वृद्धि में लगभग 10 बिलियन डॉलर का उपभोक्ता खर्च होगा. जानकारों का मानना है कि हुआवेई चीन के बाहर एक ब्रांड के रूप में Google ऐप्स और सेवाओं के बिना जीवित नहीं रह सकता है. गूगल के लाइसेंस के बिना के बिना हुआवेई के फोन में Google के YouTube, Chrome, Gmail, Google मैप जैसे ऐप उपलब्ध नहीं होंगे. इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि Google Play Store के बिना, जो स्वयं एक लाइसेंस प्राप्त Google ऐप है, Mate 30 Pro में एंड्राइड लाइसेंस नहीं होगा.

हालांकि पहले से ही Google के अभाव के कारण Huawei अपने देश में Google ऐप के बिना काम करता है. हुवावे ने अपना खुद का मोबाइल ऐप स्टोर और एडिटिव सर्विसेज विकसित किया है. WeChat के प्रभुत्व के कारण चीनी बाज़ार भी बहुत अलग है, जिसे कई लोगों ने वास्तविक ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में संभाला है. 

भारत में पिछड़ा लेकिन Airtel ने इस देश में बनाया ग्राहकों का रिकॉर्ड

 

 

First published: 29 August 2019, 13:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी