Home » इंटरनेशनल » Hundreds of Prisoners Escape From Jail In Libya Capital Tripoli
 

जेल का दरवाजा तोड़कर फरार हो गए 400 कैदी, डर से कांपते रहे सुरक्षाकर्मी

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 September 2018, 10:42 IST

लीबिया की एक जेल से 400 कैदी जेल का दरवाजा तोड़कर फरार हो गए. कमाल की बात है ये है कि कैदियों को जेल में तैनात सुरक्षाकर्मी भी नहीं रोक पाए. क्योंकि उन्हें डर था कि अगर कैदियों को जाने से रोका तो वो उनपर हमला कर देंगे. मामला लीबिया की राजधानी त्रिपोली का है. यहां की जेल से रविवार को हुए संघर्ष के बाद करीब 400 कैदियों के फरार होने की खबर है.

हालांकि अभी पुलिस ने फरार कैदियों के अपराधों के बारे में कोई ब्योरा नहीं दिया. पुलिस ने कहा है कि, ‘‘कैदी दरवाजे तोड़कर फरार होने में कामयाब हो गए.” बता देें कि ये वाकया प्रतिद्वंद्वी मिलीशियाओं के बीच जारी संघर्ष के ऐन जारा जेल तक फैलने के बाद हुआ. बयान में कहा गया है कि, सुरक्षाकर्मी, कैदियों को फरार होने से नहीं रोक पाये क्योंकि उन्हें अपनी जान का खतरा था.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी से संपर्क किया गया लेकिन वह कोई जानकारी नहीं मुहैया करा पाए. फरार होने वाले अधिकतर कैदी या तो आम अपराधों के लिए दोषी ठहराए गए थे या वे पूर्व तानाशाह मोअम्मर कज्जाफी के समर्थक थे. कज्जाफी को 2011 में हुए उस विद्रोह के दौरान हत्याओं का दोषी पाया गया था जो उनके शासन के खिलाफ हुआ था.

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक आंकड़े के मुताबिक त्रिपोली के दक्षिणी उपनगरीय क्षेत्रों में सोमवार को प्रतिद्वंद्वी मिलीशिया के बीच हुए संघर्ष में कम से कम 39 लोग मारे गए हैं, वहीं करीब 100 लोग घायल हुए हैं. वहीं आपातकाल सेवाओं और प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक रविवार को त्रिपोली में विस्थापितों के एक शिविर पर रॉकेट दागे गए. जिसमें कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और पांच लोग घायल हो गए.

शिविर में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया, ‘‘शिविर में रहने वाले अधिकतर परिवार रॉकेट हमलों के भय से शिविर छोड़कर चले गए हैं.” वहीं आपातकालीन सेवाओं के मुताबिक शुक्रवार और शनिवार को शिविर पर कम से कम 23 रॉकेट गिरे. जिससे लोग घायल हुए हैं. वहीं राष्ट्रीय एकता सरकार ने रविवार को कहा कि वह लीबिया की राजधानी और उसके आसपास के क्षेत्रों में आपात स्थिति घोषित कर रही है.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तानी सेना में सफाईकर्मी के लिए 'नॉन मुस्लिमों' से मांगे गए आवेदन, भड़का अल्पसंख्यक समुदाय

First published: 3 September 2018, 10:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी