Home » इंटरनेशनल » I am heartbroken by Donald Trump’s order Malala Yousafzai
 

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के आदेश से दुखी मलाला बोलीं, मेरा दिल टूट गया...

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2017, 14:56 IST
(File Photo)

नोबल पुरस्कार विजेता और पाकिस्तानी एक्टिविस्ट मलाला यूसुफजई का कहना है कि शरणार्थियों पर दिए गए ट्रंप के आदेश से मेरा दिल टूट गया है. मलाला ने अपने फेसबुक अकाउंट मलाला फंड में लिखा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन बच्चों और माता पिता के अंदर पल रही उम्मीदों के दरवाजे बंद कर दिए हैं जो अपने यहां फैली हिंसा से परेशान हैं. 

मलाला ने कहा कि में डोनाल्ड ट्रंप से पूछना चाहती हूं कि इस समय दुनिया में फैली अशांति और अनिश्चितता के बीच वह उन बच्चों और उनके परिवार पर कैसे अपना रुख बदल सकते हैं. जो हिंसा से इस समय जूझ रहे हैं. 

मलाला ने कहा कि मुझे दुख है कि अमेरिका अपनी पुरानी नीति को बदल रहा है जो कि शरणार्थियों और अप्रवासियों के लिए थी. जिन लोगों ने अमेरिका को बनाने में उसकी मदद की और अपनी कड़ी मेहनत के बाद उसे इस लायक बनाया कि वह और लोगों को नई जिंदगी दे सके. यूसुफजई ने कहा कि सीरिया के शरणार्थी बच्चों का इसमें क्या दोष है जिन्हें पिछले छह साल से इस युद्ध की से उनका कितना नुकसान हुआ है. 

आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने एक शासकीय आदेश पर दस्तखत किए हैं. यह अादेश 'चरमपंथी इस्लामी आतंकियों को अमेरिका से बाहर रखने के लिए'  नाम से है और सघन जांच के नए नियम तय करता है. राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद अपने पहले पेंटागन दौरे में ट्रंप ने इस शासकीय आदेश पर दस्तखत किए.

दस्तखत करने के बाद ट्रंप ने कहा कि हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम उन खतरों को अपने देश में न आने दें, जिनसे हमारे सैनिक विदेशों में लड़ रहे हैं. हम सिर्फ उन्हीं को अपने देश में आने देना चाहते हैं, जो हमारे देश को सहयोग देंगे और हमारी जनता से गहरा प्रेम करेंगे. 

First published: 28 January 2017, 14:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी