Home » इंटरनेशनल » IIT engineers staring at job losses in Kuwait, HRD Ministry intervenes
 

कुवैत में भारतीय IIT इंजीनियरों की नौकरी खतरे में क्यों है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 July 2019, 14:14 IST

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देश में प्रीमियर इंजीनियरिंग संस्थानों की एक सूची कुवैत को भेजी है, जहां कई भारतीय एआइआइटी इंजीनियरों पर नौकरी खोने का खरा बना हुआ है. दरअसल गल्फ देश ने फैसला किया है कि वह केवल उन इंजीनियरों को मान्यता देगा जिनकी डिग्री एनबीए सेमान्यता प्राप्त होगी.

कुवैत की एक सरकारी संस्था ने पिछले साल एक सर्कुलर जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि जब तक कुवैत इंजीनियर्स सोसाइटी से अनापत्ति (no-objection) प्रमाण पत्र प्राप्त नहीं किया जाता है, तब तक वे श्रम विभाग को इंजीनियरों को काम करने की अनुमति नहीं देंगे. भारत के लिए इंजीनियरों को केवल तभी अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी किया जाना था, जब पाठ्यक्रम को राष्ट्रीय एनबीए द्वारा मान्यता दी गई हो. मानव संसाधन विकास मंत्रालय तब से इस बारे में कुवैत में काम कर रहे भारतीय इंजीनियरों से जानकारी प्राप्त कर रहा है.

 

एक उच्च स्तरीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने इस मुद्दे को समझने और हल करने के लिए कुवैत का दौरा किया था और कुवैत अधिकारियों के साथ चर्चा के बाद, उन्हें 'गैर-एनबीए प्रमुख संस्थान' और 'राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों' की सूची भेजने का निर्णय लिया गया था. NBA इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों को मान्यता देता है जबकि राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (National Assessment and Accreditation Council) (NAAC) विश्वविद्यालयों और सामान्य कॉलेजों को मान्यता देता है.

अधिकारी ने बताया, "आईआईटी, आईआईएससी और जेयू ने अपने इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों के लिए एनबीए से कभी मान्यता नहीं ली है. कई राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (एनआईटी) को अभी तक अपने बीटेक पाठ्यक्रमों के लिए मान्यता नहीं मिली है." NBA, पहले तकनीकी शिक्षा नियामक ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) का एक विंग था. यह 1990 के दशक से अस्तित्व में है, लेकिन 2010 में एक स्वायत्त निकाय बन गया. यह अब तक कुल 3,500 संस्‍थाओं द्वारा 600 संस्‍थानों द्वारा पेश किए गए पाठ्यक्रमों को एक्रीडिटेशन दे चुका है.

कर्ज चुकाने के लिए अब मुंबई का दफ्तर बेचने की तैयारी में अंबानी, मिलेंगे 3,000 करोड़

First published: 1 July 2019, 14:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी