Home » इंटरनेशनल » Imran Khan buried under the influence of the army, is this the new Pakistan
 

सेना के प्रभाव में दबे इमरान खान, क्या यही है 'नया पाकिस्तान'

न्यूज एजेंसी | Updated on: 30 August 2019, 8:47 IST

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सपने का 'नया पाकिस्तान' जिसके लिए अनेक युवाओं और मध्यवर्गीय पाकिस्तानी मतदाताओं से अपील की गई थी वह गंभीर वित्तीय संकट के कारण विफल हो गया है और विदेश व सुरक्षा के मसलों पर शक्तिशाली सेना का वर्चस्व बना हुआ है.

यह बात अमेरिकी कांग्रेस की एक रिपोर्ट में कही गई है. 'पाकिस्तान्स डोमेस्टिक पॉलिटिकल सेटिंग अर्थात पाकिस्तान की देसीय राजनीति व्यवस्था' नामक इस रिपोर्ट को कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) ने तैयार किया है.

द्विदलीय सीआरएस द्वारा अमेरिकी सांसदों के लिए तैयार की गई रिपोर्ट बताती है कि क्रिकेट के सुरपस्टार, धनाढ्य रसिक और परोपकारी रहे खान विगत में अमेरिका के प्रबल आलोचक रहे हैं और कुछ लोग उनको इस्लामी आतंकियों से सहानुभूति रखने वाले के रूप में मानते हैं.

वर्ष 2018 के चुनाव में खान को जीत मिली और दो परिवारों के विरासत वाले दलों- पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी और पाकिस्तान मुस्लिक लीग नवाज की सत्ता का अंत हो गया है. इस पर रिपोर्ट में कहा गया है कि अनेक विश्लेषकों का तर्क है कि पाकिस्तान की सुरक्षा सेवा चुनाव से पहले और चुनाव के दौरान अप्रत्यक्ष रूप से देश की घरेलू राजनीति को अपने अनुसार चला रहा थी और मुख्य इरादा नवाज शरीफ को सत्ता से हटाना और सत्ताधारी पार्टी को कमजोर करना था.

रिपोर्ट के अनुसार, "तथाकथित सेना-न्यायापालिक की सांठगांठ का कथित तौर पर खान के पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) का समर्थन मिला."

First published: 30 August 2019, 8:47 IST
 
अगली कहानी