Home » इंटरनेशनल » in afghanistan: taliban used sex slave to police murder
 

अफगानिस्तान: पुलिस की हत्याओं में यौन गुलामों का प्रयोग करता है तालिबान

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 June 2016, 17:39 IST
(एजेंसी)

अफगानिस्तान के दक्षिणी क्षेत्र में पुलिस पर हमला करने के लिए तालिबान बाल यौन गुलाम का इस्तेमाल कर रहा है. तालिबान के इस एक्शन को ‘बच्चा बाजी’ के नाम से जाना जाता है, जिसमें ये बाल यौन गुलाम सुरक्षा खेमे में घुसपैठ करते हैं.

यह जानकारी कई अधिकारियों और इस तरह के हमलों में बचे कई पुलिसकर्मियों ने दी है.

खबरों के मुताबिक तालिबान के लड़ने का यह पुराना तरीका वैसे तो पूरे अफगानिस्तान में प्रचलित है, लेकिन यह उरूजगान प्रांत में सर्वाधिक दिखाई देती है. यहां शक्तिशाली पुलिस कमांडरों के लिए ‘बच्चा बेरीश’ या बिना दाढ़ी वाले लड़के व्यापक रूप से कामुक आकर्षण की वस्तु हैं.

इस मामले में उरूजगान प्रांत के सुरक्षा और न्यायिक अधिकारियों ने बताया कि तालिबान ने लगभग दो साल तक ट्रोजन हार्स हमले में इसका इस्तेमाल किया.

उन्होंने जनवरी में कम से कम छह और अप्रैल में एक हमले में सैकड़ों पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी.

उरूजगान के पुलिस प्रमुख रहे गुलाम शेख रोघ लेवनई ने इस मामले में बताया कि, ‘तालिबान, चौकियों में घुसने और हत्या, मादक पदार्थ और पुलिसकर्मियों को जहर देने के लिए खुबसूरत और सुंदर लड़कों को भेज रहा है.’ 

उन्होंने कहा कि, ‘तालिबानियों ने पुलिस बलों की बड़ी कमजोरी ‘बच्चा बाजी’ को पकड़ लिया है.’ वहीं इस पूरे मामले पर तालिबान के एक प्रवक्ता ने बताया कि, ‘इस तरह के अभियानों के लिए हमने एक विशेष मुजाहिद्दीन ब्रिगेड का गठन किया है जिसमें सभी व्यक्तियों की दाढ़ी होती है.’

First published: 19 June 2016, 17:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी