Home » इंटरनेशनल » india allows visit of leader whom china claims is a terrorist
 

चीन: भारत का उइगर कांग्रेस नेता डोलकन ईसा को वीजा देना गलत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

भारत द्वारा विश्‍व उइगर कांग्रेस के नेता डोलकन ईसा को वीजा दिए जाने पर चीन ने कड़ी आपत्ति जताई है.

चीन ने आधिकारिक बयान में कहा है कि ईसा आतंकी है और उनके खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया है. इसलिए भारत सहित विश्व के सभी देशों की जिम्‍मेदारी है कि उसे पकड़ा जाए.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता हुआ चुन यिंग ने बताया, "डोलकन इंटरपोल और चीनी पुलिस के मुताबिक आतंकी है."

डोलकन  ईसा और विश्‍व उइगर कांग्रेस के दूसरे नेताओं को दलाई लामा से मिलने के लिए वीजा जारी किया गया है. जिसके बाद वो जल्द ही भारत की यात्रा कर सकते हैं. 

चीन के गुप्त वीटो का जवाब !

कूटनीतिक तौर पर भारत के इस कदम को चीन द्वारा जैश-ए-मुहम्‍मद के चीफ अजहर मसूद पर प्रतिबंध लगाने के खिलाफ एतराज जताने के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है. 

पढ़ें:मसूद अजहर आतंकवादी नहीं: चीन

चीन का मानना है कि उइगर नेता चीन के मुस्लिम बहुल शिजियांग प्रांत में सरकार के खिलाफ आतंकवाद को बढ़ावा देते रहे हैं.

शिजियांग में उइगर मुसलमानों की आबादी एक करोड़ है. कई साल से अलग-अलग मांगों को लेकर उइगर मुसलमान चीन में प्रदर्शन कर रहे हैं. 

धर्मशाला में 28 अप्रैल से कॉन्फ्रेंस

डोलकन ईसा हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में 28 अप्रैल से एक मई तक चलने वाली कॉन्फ्रेंस में शामिल होंगे. इसमें चीन के निर्वासित नेता भी शिरकत करेंगे.

इसे अमेरिका का सिटिजन पावर ऑफ चाइना नाम का संगठन आयोजित कर रहा है. जिसके मुखिया यांग जियानली हैं, जो थियानमन चौक पर हुए आंदोलन में भी शामिल थे.

पढ़ें:मसूद अजहर पर चीन के वीटो केे बाद भारत ने जतायी निराशा

First published: 23 April 2016, 1:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी