Home » इंटरनेशनल » India angry on US-Pakistan deal of F-16 jet
 

अमेरिका ने पाकिस्तान को दिया एफ-16, भारत को ऐतराज

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 February 2016, 14:16 IST

पेंटागन स्थित अमेरिकी रक्षा मुख्यालय द्वारा पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू जेट विमान बेचने के सौदे पर मोहर लगाने के बाद भारत ने ऐतराज जताया है. 4,690 करोड़ रुपये के इस सौदे के अंतर्गत पाकिस्तान को लॉकहीड मार्टिन ग्रुप के इन विमानों के अलावा रडार और बाकी उपकरण भी मुहैया कराए जाएंगे. 

इस सूचना के बाद भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान का रिकॉर्ड बताता है कि वह हथियार बेचे जाने लायक मुल्क नहीं है. ओबामा प्रशासन के इस फैसले ने हमें निराश किया है. इतना ही नहीं विदेश मंत्रालय ने नई दिल्ली में अमेरिकी राजदूत को तलब कर इस सौदे पर आपत्ति जताई है. 

इससे पहले विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक, "हम पाकिस्तान को एफ 16 विमानों की बिक्री को अधिसूचित करने के ओबामा प्रशासन के निर्णय से निराश हैं. हम इस तर्क से असहमत हैं कि इस प्रकार हथियारों के हस्तांतरण से आतंकवाद से निपटने में मदद मिलती है. इस संबंध में पिछले कुछ वर्षों का रिकॉर्ड यह साबित करता है. विदेश मंत्रालय अपनी नाखुशी जाहिर करने के लिए अमेरिकी राजदूत को तलब करेगा."

पढ़ेंः मोदीजी! यह कटु सत्य है, पाकिस्तान आतंकवाद नहीं छोड़ सकता

वहीं, पाकिस्तान को हथियार मुहैया कराए जाने के पीछे अमेरिका की डिफेंस सिक्योरिटी कोऑपरेशन एजेंसी का कहना है कि यह विमान इसलिए दिए जा रहे हैं ताकि वह अपनी रक्षा कर सके. 

सीनेट की फॉरेन रिलेशंस कमेटी के चेयरमैन सीनेटर बॉब कॉर्कर ने ओबामा प्रशासन से पहले कहा था कि वे पाकिस्तान को जेट्स बेचने के लिए अमेरिकी फंड का इस्तेमाल नहीं करने देंगे. पाकिस्तान अगर लड़ाकू विमान चाहता है तो वह खुद के बूते खरीदे. अमेरिका इस सौदे की 46 फीसदी कीमत नहीं चुकाएगा. उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी को पत्र लिखकर कहा था कि पाकिस्तान के रिश्ते हक्कानी नेटवर्क से हैं. इस वजह से पाकिस्तान को कोई हथियार नहीं बेचे जाने चाहिए.

पढ़ेंः पाकिस्तान भी आतंकियों की पनाहगाह में शामिल है: बराक ओबामा

अमेरिका के दोनों ही दलों के प्रभावशाली सांसदों के बढ़ते विरोध के बावजूद भी अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कांग्रेस को अधिसूचित किया कि वह पाकिस्तान को एफ-16 विमान और इससे जुड़ी सुविधाएं-उपकरण से जुड़े सहयोग वाली विदेशी सैन्य बिक्री को मंजूरी दे रहा है. 

उधर, पेंटागन से इस सौदे पर मोहल लगने के बाद अमेरिकी सांसदों के पास 30 दिन का वक्त होगा. इस दौरान वे पाकिस्तान को यह विमान बेचे जाने पर रोक लगा सकते हैं. 

पाकिस्तान के पास पहले से ही 70 एफ-16

बताया जाता है कि पाकिस्तान के पास अभी भी 70 से ज्यादा की संख्या में एफ-16 लड़ाकू विमानों के अलावा फ्रांसीसी और चीन निर्मित लड़ाकू विमान भी हैं. 

क्या है एफ-16 की खासियत

करीब 250 करोड़ रुपये कीमत वाले इस फाइटर को अमेरिकी लॉकहीड मार्टिन द्वारा निर्मित किया जाता है.

इसकी अधिकतम रफ्तार 2500 किलोमीटर प्रतिघंटा है और एक बार में यह अधिकतम 2400 किलोमीटर की दूरी तय कर सकता है. इस लड़ाकू विमान में छह हवा से हवा और दो हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलें लग सकती हैं. 

First published: 13 February 2016, 14:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी