Home » इंटरनेशनल » India cancels visa for Uyghur leader Dolkun Isa after China protests
 

चीन के विरोध के बाद उइगर नेता डोलकन ईसा का वीजा रद्द

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 April 2016, 13:06 IST

भारत ने विश्व उइगर कांग्रेस के नेता डोलकन ईसा का वीजा रद्द कर दिया है. सूत्रों की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक चीन के दबाव के बाद ईसा का वीजा रद्द किया गया है.

हालांकि भारत सरकार की ओर से कहा गया है कि ईसा के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी है, इसी वजह से वीजा रद्द हुआ है.

चीन ने जताया था विरोध

कुछ दिन पहले ही विश्व उइगर कांग्रेस के नेता डोलकन ईसा को वीजा दिए जाने पर चीन ने कड़ी आपत्ति जताई थी. विश्व उइगर कांग्रेस चीन से बाहर रहने वाले उइगर मुसलमानों का समूह है.

भारत द्वारा ईसा को वीजा दिए जाने को कूटनीतिक तौर पर चीन को अजहर मसूद मामले में जवाब माना जा रहा था. दरअसल संयुक्त राष्ट्र में जैश-ए-मुहम्मद के चीफ अजहर मसूद पर प्रतिबंध लगाने के खिलाफ चीन ने गुप्त वीटो किया था. 

पढ़ें:मसूद अजहर पर चीन के वीटो के बाद भारत ने जतायी निराशा

डोलकन ईसा टूरिस्ट वीजा पर धर्मशाला में 28 अप्रैल से 1 मई के बीच होने वाली कॉन्फ्रेंस में शामिल होने के लिए भारत आने वाले थे. सम्मेलन में चीन के निर्वासित नेता भी शिरकत करने वाले हैं.

सम्मेलन को अमेरिका का सिटिजन पावर ऑफ चाइना नाम का संगठन आयोजित कर रहा है. जिसके मुखिया यांग जियानली हैं, जो थियानमन चौक पर हुए आंदोलन में भी शामिल थे.

आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप

चीन ने आधिकारिक बयान में कहा था कि ईसा आतंकी है और उनके खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी है. इसलिए भारत सहित विश्व के सभी देशों की जिम्मेदारी है कि उसे पकड़ा जाए.

पढ़ें:चीन: भारत का उइगर कांग्रेस नेता डोलकन ईसा को वीजा देना गलत

ईसा का कहना है कि रेड कॉर्नर नोटिस के बावजूद  वो कई लोकतांत्रिक देशों की यात्रा कर चुके हैं.

डोल्कन ईसा 1990 से जर्मनी में रहते हैं. ईसा पर चीन के शिंजियांग प्रांत में आतंकवादी घटनाओं में शामिल होने और लोगों की हत्या की साजिश रचने का आरोप है.

1997 से वे इंटरपोल की लिस्ट में है. शिजियांग में उइगर मुसलमानों की आबादी एक करोड़ है. कई साल से अलग-अलग मांगों को लेकर उइगर मुसलमान चीन में प्रदर्शन कर रहे हैं.

First published: 25 April 2016, 13:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी