Home » इंटरनेशनल » indonesia govt not execute gurdip on drugs racket
 

भारत की अपील पर इंडोनेशिया में टली गुरदीप की सजा-ए-मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2016, 10:23 IST

इंडोनेशिया सरकार ने मादक पदार्थों की तस्करी से जुड़े अपराध में दोषी पाए गए 14 लोगों में से चार को मृत्युदंड दे दिया है. इन चारों आरोपियों को शुक्रवार रात 12 बजकर 45 मिनट पर गोली मारी गई. 

मौत की सजा पाए इन चार लोगों में से एक स्थानीय जबकि तीन नाइजीरियाई नागरिक बताए जा रहे हैं. हालांकि इस मामले में एक भारतीय गुरदीप सिंह को भी सजा मिली है, लेकिन भारत की अपील पर गौर करते हुए इंडोनेशिया सरकार ने उसकी सजा को फिलहाल टाल दिया है.

वहीं, गुरदीप सिंह ने इंडोनेशिया से फोन करके अपनी पत्नी कुलविंदर कौर से कहा, "मुझे गोली मार दी जाएगी और मेरा शव स्वदेश मंगवा लेना."

कौर ने बताया, "भारतीय दूतावास के अधिकारी का मेरे पास फोन आया था. इस बार आवाज मेरे पति की थी और उन्होंने मुझसे कहा कि आज रात उन्हें गोली मार दी जाएगी और मैं उनका शव यहां मंगवा लूं."

गुरदीप सिंह पंजाब के जालंधर जिले के नकोदर इलाके से ताल्लुक रखते हैं. गुरदीप के भांजे गुरपाल सिंह ने बताया कि सरकार की ओर से उनके परिवार को अभी किसी तरह की आधिकारिक सूचना नहीं मिली है कि अब तक क्या हुआ है  और आगे क्या होगा.

गुरपाल सिंह के मुताबिक गुरुवार की रात इंडोनेशिया स्थित भारतीय दूतावास की ओर से उन्हें सूचना दी गई की गुरदीप सिंह को गोली मार दी गई है, लेकिन उसी के 20 मिनट बाद दोबारा जानकारी दी गई कि वो सुरक्षित हैं.

गुरपाल सिंह ने पूरी घटना के बारे में जानकारी देते हुए बताया, "काफी वक्त पहले एक एजेंट ने गुरदीप को फंसाकर इंडोनेशिया में उसका पासपोर्ट रख लिया, गुरदीप को न्यूजीलैंड जाना था. लेकिन वो उसे लेकर नहीं गए. उसके बाद उन्होंने वहां जबरदस्ती गुरदीप को ड्रग सप्लाई के काम में लगा दिया."

इंडोनेशिया सरकार ने गुरदीप को ड्रग्स तस्करी के आरोप में 2004 में पकड़ लिया और 2005 में उन्हें सजा सुनाई गई. तभी से वे जेल में बंद हैं.

गुरदीप सिंह की पत्नी कुलविंदर कौर ने भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से अपील की है कि गुरदीप पहले ही 10 साल सजा काट चुके हैं तो उनकी सजा को बदल दिया जाए.

इस अपील के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, "हम गुरदीप सिंह की मदद करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. भारतीय दूतावास का एक अधिकारी खासतौर से इस कोशिश में लगा हुआ है."

First published: 29 July 2016, 10:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी