Home » इंटरनेशनल » Iran's revolutionary guard seizes Britain operated tanker in strait of Hormuz
 

ईरान ने ब्रिटेन को दिखाई घुड़की, होरमुज की खाड़ी से जब्त किया तेल टैंकर

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2019, 14:11 IST

ईरान ने अब ब्रिटेन से अब लड़ाई मोल ली है. दरअसल, शनिवार को ईरान ने होरमुज की खाड़ी से ब्रिटेन का एक तेल टैंकर जब्त कर लिया. इसके बाद से ईरान और पश्चिमी देशों के बीच एक बार फिर से तनाव बढ़ गया हैबताया जा रहा है कि ईरान ने जिस कंपनी का टैंकर जब्त किया है.

उसके क्रू में भारत के भी कुछ लोग शामिल है. कंपनी ने बयान जारी कर बताया है कि ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स ने यूके के झंडे वाले ‘स्टेना इमपेरो’ को अंतरराष्ट्रीय सीमा में ही हेलिकॉप्टर्स और चार शिप की मदद से घेरा और फिर अपने कब्जे में ले लिया. बता दें कि टैंकर में कुल 23 क्रू मेंबर्स थे. इनमें भारतीय, रूसी, लातविया और फिलीपींस के नागरिक शामिल हैं.

वहीं दूसरी ओर ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड ने अपनी वेबसाइट पर टैंकर जब्त करने की जानकारी दी है. इसमें कहा गया है कि शिप को अंतरराष्ट्रीय जलमार्ग कानून न मानने के के चलते जब्त किया गया. खबरों के मुताबिक, शिप को ईरान के किसी बंदरगाह पर ही रखा जाएगा. हालांकि, ब्रिटिश सरकार और शिपिंग कंपनी का अभी तक इससे संपर्क नहीं हो पाया है.

इस मामले में ब्रिटेन ने गंभीरता दिखाते हुए ईरान को चेतावनी जारी की है. ब्रिटेन के विदेश मंत्री जेरेमी हंट ने कहा कि अगर ईरान जल्द शिप को नहीं छोड़ता तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे. हालांकि, उन्होंने मामले को सैन्य तरीके की जगह राजनयिकों के जरिए सुलझाने पर जोर दिया है.

हंट ने कहा है कि ईरान में मौजूद राजदूत लगातार विदेश मंत्रालय से संपर्क में बने हैंइस घटना के बाद ब्रिटिश सरकार की आपातकालीन कमेटी कोबरा चर्चा किए मीटिंग बुलाई है. वहींं शिपिंग कंपनी के प्रवक्ताओं ने शिप में सवार क्रू के सलामत होने की बात कही है. हालांकि, शिप की पूरी जानकारी अभी तक हासिल नहीं की जा सकी है.

बता दें कि इसी महीने की शुरुआत में ब्रिटेन और ईरान के बीच तनाव बढ़ गया था. तब ब्रिटिश रॉयल मरीन ने यूरोपीय कानून तोड़ने के लिए ईरान के एक टैंकर ‘ग्रेस’ को जिब्राल्टर से जब्त कर लिया था. तब ये बताया गया था कि ये टैंकर सीरिया से तेल लेकर जा रहा था. इसके बाद ईरान ने भी ब्रिटेन को उसका तेल टैंकर जब्त करने की धमकी दी थी.

First published: 20 July 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी