Home » इंटरनेशनल » ISIS help desk for militants cyber security
 

साइबर सिक्योरिटी के लिए आईएसआईएस ने बनाई हेल्प डेस्क

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2016, 16:50 IST

खबर है कि आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक तकनीकी हेल्पडेस्क खोली है. इसका काम संगठन के आतंकियों को यह प्रशिक्षण और जानकारी देना है कि कैसे इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस को चकमा देकर बच निकलें और कैसे सुरक्षा से जुड़ी चूक करने से बचें, ताकि उनका जीवन खतरे में न पड़े.

मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट (एमईएमआरआई) ने इस संबंध में अपनी ताजा रिपोर्ट जारी की है. इसमें बताया गया है कि 30 जनवरी को तमाम टॉप आईएसआईएस साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स ने द इलेक्ट्रॉनिक हॉरिजन फाउंडेशन (ईएचएफ) को लॉन्च किया था.

एमईएमआरआई ने कहा कि आईएसआईएस की हेल्प डेस्क का खुलासा किया जा चुका है. इसके साथ 34 पन्नों का मैनुअल भी सामने आया जो इन आतंकियों को अपने कम्यूनिकेशंस को एन्क्रिप्ट करने का तरीका सिखाता था. लेकिन अब लॉन्च किया गया ईएचएफ इन्हें और आगे ले जाकर सुरक्षा पाने में मदद करेगा.

पढ़ेंः ब्रिटेन जितना बड़ा है दुनिया का दुःस्वप्न बन चुका आतंकी राज्य आईएस

रिपोर्ट में बताया गया है कि, "बीते वक्त मेें तमाम पासवर्ड प्रोटेक्टेड जेहादी फोरमों में सीमित की जा चुकी तकनीकी जानकारी को जेहादियों द्वारा काफी लंबे वक्त से खोजा जा रहा था." यह भी कहा गया, "अब जिस आजादी और आसानी से वो जानकारी जुटा सकते हैं वो खतरे की घंटी है. विशेषकर जब ऐसी जानकारियां निजी और सुरक्षित माध्यमों के जरिये साझा की गई हों."

रिपोर्ट में बताया गया है कि ईएचएफ टेलीग्राम नामक एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर काम करता है. यह टेलीग्राम एक ट्विटर अकाउंट भी बनाए हुए हैं जिससे जानकारी दी जाती है और इसके फॉलोअर्स को सुरक्षित टेलीग्राम की ओर पहुंचा देता है.

इस संगठन का स्वयं से दिया हुआ लक्ष्य साफ है, "सुरक्षित और तकनीकी जागरूकता को अपने मानने वालों तक पहुंचाना."

ईएचएफ की लॉन्चिंग के दौरान उद्घोषणा में कहा गया, "अब वक्त आ गया है हम इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस का सामना करें, इंटरनेट के खतरों के बारे में मुजाहिदीनों को शिक्षित करें और टूल्स, डायरेक्टिव्स व सुरक्षा विवरण मुहैया कराएं जिससे उन्हें ई-सुरक्षा दी जा सके."

First published: 12 February 2016, 16:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी