Home » इंटरनेशनल » jamat ud dawa ban pakistan hafiz muhammad saeed terrorist
 

पाकिस्तान चारों ओर के दबाव से झुका, FIF और हाफिज सईद के जमात-उद-दावा को किया बैन

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2019, 8:21 IST

पाकिस्तान को अब अंतर्राष्ट्रीय दबाव के कारण आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ रही है. चारों ओर से फंसे पाकिस्तान को जैश सरगना मसूद अजहर के दो भाई समेत 44 आतंकवादियों को गिरफ्तार करना पड़ा. इस कार्रवाई के कुछ घंटे बाद ही पाकिस्तान ने जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इन्सानियत फाउंडेशन पर बैन लगा दिया है. बता दें कि पाकिस्तान ने 4 मार्च को JUD को वॉच लिस्ट में रखा था और इसके अगले दिन ही उसे बैन कर दिया.

ये दोनों आतंकी संगठन हाफिज सईद के हैं. हाफिस मुंबई हमले का मुख्य गुनहगार है. इन दोनों संगठनों पर से कुछ दिन पहले ही बैन हटाया गया था. हाफिज सईद इन दोनों संगठनों के जरिए करीब 300 धार्मिक शिक्षण संस्थान और स्कूल, अस्पताल, पब्लिशिंग हाउस और एंबुलेंस सर्विस चलाता है. पाकिस्तान में इससे पहले भी कई बार JUD पर बैन की कार्रवाई होती रही है, लेकिन कई बार वो सरकार के फैसले के खिलाफ कोर्ट जा चुका है.

बता दें कि संयुक्त ऱाष्ट्र संघ ने हाफिज सईद को आतंकी घोषित करते हुए उस पर 10 मिलियन डॉलर के इनाम का ऐलान किया था. लश्कर पर 2012 में बैन लगाया गया था. बैन लगने के बाद हाफिज ने अपनी आतंकी गतिविधि चलाने के लिए जमात उद दावा और फलाह ए इन्सानियत फाउंडेशन बनाया और इनकी आड़ में अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देता रहा. पाकिस्तान की जमीन पर ऐसी आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के चलते अमेरिका और यूरोपियन देशों के फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने इस पड़ोसी मुल्क को अपनी ग्रे लिस्ट में डाल दिया था.

FATF की बैठक से कुछ दिन पहले खबर आई थी कि पाकिस्तान ने आतंकी हाफिज़ सईद के संगठन जमात-उद-दावा पर बैन लगाया है. ये खबर बाद में झूठी साबित हुई थी, आतंकी संगठन की लिस्ट सामने आने पर खुलासा हुआ कि पाकिस्तान की सरकार ने हाफिज की संगठन पर बैन नहीं लगाया है, बल्कि सिर्फ इन पर निगरानी रखने की बात कही है.

भारत के मजबूर करने पर इमरान खान का बड़ा एक्शन, अजहर मसूद के 2 भाइयों समेत 44 आतंकी गिरफ्तार

First published: 6 March 2019, 8:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी