Home » इंटरनेशनल » Kim Jong Un warned the United States that he has a "nuclear button" on his desk ready for destroy america
 

नए साल पर किम जोंग की धमकी, 'बटन दबाते ही खत्म हो जाएगा अमेरिका'

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 January 2018, 10:41 IST
(File Photo)

पूरे विश्व में नए साल का आगाज़ हो गया है. सभी देशों के लोग आपस में गले मिलकर गिले शिकवे दूर कर रहे हैं, लेकिन नॉर्थ कोरिया और अमेरिका की दुश्मनी अभी भी बरकरार है. इसका ताजा उदाहरण है नॉर्थ कोरिया के तानाशाह की धमकी. दरअसल जैसे ही नए साल का आगाज़ हुआ उसके साथ ही तानाशाह किम जोंग उन ने अमेरिका को खत्म करने की धमकी दे डाली.

इस दौरान अपने भाषण में किम जोंग ने कहा,"अमेरिका की पूरी ज़मीन हमारी परमाणु मिसाइलों की जद में है और इन मिसाइलों का बटन हमेशा ही मेरी टेबल पर रहता है. यही कारण है कि अमेरिका कभी भी मुझसे या हमारे देश से लड़ाई नहीं करेगा." किम ने आगे कहा, "ये मैं किसी को ब्लैकमेल नहीं कर रहा हूं बल्कि यही सच्चाई है. हमारा देश सबसे बड़ी न्यूक्लियर शक्ति बनकर उभरेगा." 

 

हाल ही में नॉर्थ कोरिया की सरकारी मीडिया की रिपोर्ट में सामने आया था कि साल 2018 में भी नॉर्थ कोरिया अपने परमाणु परीक्षण जारी रखेगा. इस बारे में नॉर्थ कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी का कहना है, "प्योंगयांग अपने परमाणु कार्यक्रम का विकास जारी रखेगा, जिससे देश 'अजेय' परमाणु शक्ति तौर पर उभरे."

इस रिपोर्ट में आगे कहा गया, 'एक अजेय शक्ति के रूप में नॉर्थ कोरिया के अस्तित्व को ना ही कमजोर किया जा सकता है और ना ही नकारा जा सकता है. एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति के रूप में उत्तर कोरिया सभी बाधाओं को पार करते हुए स्वतंत्रता और न्याय की राह पर चलेगा.'

गौरतलब है कि उत्तर कोरिया ने पिछले साल 3 सितंबर को अपने सबसे ताकतवर परमाणु हथियार का परिक्षण किया था. इसी हथियार की प्रशंसा करते हुए नॉर्थ कोरिया की इसे एक बड़ी जीत बताया था. इसके बाद साल 2017 में 28 नवंबर को नॉर्थ कोरिया ने अपने सबसे विकसित अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल ह्वासॉन्ग-15 का भी परीक्षण किया था. इस मिसाइल को लेकरप प्योंगयांग का कहना है कि ये मिसाइल अमेरिका में किसी भी लक्ष्य तक पहुंचने में सक्षम है.

 

गौरतलब है कि बीते गुरुवार को चीन पर निशाना साधते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया था, ''रंगे हाथ पकड़ा गया- बेहद निराशाजनक है कि चीन नॉर्थ कोरिया को तेल ले जाने दे रहा है. अगर ऐसा होता रहा, तो उत्तर कोरिया की समस्या का कभी दोस्ताना तरीके से हल नहीं निकाला जा सकता." हालांकि, चीन ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस दावे को सीधे तौर पर खारिज कर दिया था.

First published: 1 January 2018, 10:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी