Home » इंटरनेशनल » Know why people with anger misunderstands others often
 

गुस्सैल व्यक्ति क्यों नहीं समझ पाता दूसरों की मंशा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2016, 20:16 IST

गुस्सैल लोगों में दूसरों की मंशा का गलत मतलब निकालने की ज्यादा संभावना होती है. ऐसे लोग सामाजिक संवाद को पूरी तरह नहीं लेते हैं, जैसे सामने वाले व्यक्ति की बॉडी लैंग्वेज. इसकी वजह सामाजिक स्थितियों को प्रॉसेस करने वाले मस्तिष्क के हिस्सों के बीच कनेक्टिविटी का कम होना है. 

न्यूरोसाइकोफॉर्मैकोलॉजी जर्नल में प्रकाशित एक एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है. इस शोध के नतीजे बताते हैं कि इंटरमिटेंट एक्सप्लोजिव डिसऑर्डर (आईईडी) या फिर आवेगी आक्रामकता (इंपल्सिव एग्रेसन) वाले लोगों में संवेदना महसूस करने वाले, भाषा को समझने वाले और सामाजिक संवाद से संबंधित मस्तिष्क के हिस्सों के बीच कमजोर संपर्क (कनेक्टिविटी) होता है.

शोधः महिला से ज्यादा पुरुष के लिए फायदेमंद है शादी

इस शोध के वैज्ञानिकों ने दिखाया कि मस्तिष्क के सुपीरियर लॉन्गीट्यूडनल फैस्कीक्युलस (एसएलएफ) नाम के हिस्सा में एक क्षेत्र होता है. इसके भीतर सफेद पदार्थ भरा होता है. स्वस्थ लोगों के एलएसएफ में भरे इस सफेद पदार्थ का घनत्व काफी ज्यादा होता है जबकि गुस्सैल या अन्य मनोवैज्ञानिक समस्याओं से ग्रस्त लोगों में यह घनत्व काफी कम होता है.

गुस्सैल व्यक्ति से संवाद के दौरान गुस्सैल व्यक्ति का मस्तिष्क उसकी भाषा और संवेदना को सही ढंग से नहीं समझ पाता

बता दें कि एसएलएफ मस्तिष्क के फ्रंटल लोब और पैरिएटल लोब के बीच संपर्क (कनेक्ट) साधता है. फ्रंटल लोब की जिम्मेदारी भावनाओं, फैसला लेने और काम करने के परिणामों को समझने की होती है. जबकि पैरिएटल लोब भाषा और संवेदना महसूस करने की प्रॉसेसिंग करता है.

एक चौथाई लड़कियों ने माना लड़कियों से थे यौन संबंधः सर्वे

सीधे शब्दों में कहें तो गुस्सैल व्यक्ति से संवाद के दौरान गुस्सैल व्यक्ति का मस्तिष्क उसकी भाषा और संवेदना को सही ढंग से नहीं समझ पाता है और परिणामस्वरूप उसकी भावनाएं, फैसले और गतिविधियां उचित रूप से व्यक्त नहीं हो पातीं.

यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एसोसिएट प्रोफेसर और शोध के प्रमुख लेखक रॉयस ली का मानना है कि स्वस्थ व्यक्तियों और मनोरोगियों के शारीरिक स्वास्थ्य में तो काफी कम अंतर होता है लेकिन इनके मस्तिष्क में कनेक्टिविटी एक नाजुक मामला है, जो दिखाई नहीं पड़ता.

शोधः चंद लम्हों की ही खुशी देती है शराब, हमेशा नहीं

वे कहते हैं, "मस्तिष्क कैसे संगठित है यह उतना जरूरी नहीं है लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि इसके हिस्सों में कितना संपर्क (कनेक्टिविटी) है."

First published: 7 July 2016, 20:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी