Home » इंटरनेशनल » Leonardo DiCaprio: We cannot allow the corporate greed to decide future of humanity
 

लियोनार्डो डीकैप्रियोः हम कारपोरेट लालच को मानवता का भविष्य तय करने की छूट नहीं दे सकते

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2016, 16:30 IST

मशहूर हॉलीवुड एक्टर लियोनार्डो डीकैप्रियो ने जलवायु परिवर्तन के लिए जिम्मेदार ऊर्जा उद्योग की कड़ी आलोचना की. डीकैप्रियो बुधवार को स्विटज़रलैंड के दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकॉनॉमिक फ़ोरम में बोल रहे थे.

सम्मेलन में डीकैप्रियो को उनके पर्यावरण संबंधी कामों के लिए क्रिस्टल अवार्ड दिया गया. दुनिया के कई प्रमुख नेता इस समारोह में मौजूद थे. ये सम्मेलन 20 से 23 फरवरी तक चलेगा.

डीकैप्रियो ने कहा, "हम कोयला, तैल और गैस से जुड़े कारपोरेट लालच को मानवता का भविष्य तय करने की छूट नहीं दे सकते. इन उद्योगों से मुनाफा कमाने वाली कंपनियां इस विनाशकारी सिस्टम के जलवायु परिवर्तन पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव के सबूत छिपाती और दबाती हैं."

डीकैप्रियो ने समारोह में कहा, "बस अब बहुत हो गया. आप बेहतर जानते हैं. पूरी दुनिया इसे अच्छे से जानती है. इतिहास इस विनाश के लिए बेलाग लपेट उन्हें सीधे सीधे जिम्मेदार ठहराएगा."

डीकैप्रियो ने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के एकमात्र तरीका यही है कि हम तेल, गैस और कोयले को उनके प्राकृतिक भंडारों में जस का तस छोड़ दें.

ग्लोबल वार्मिंग से निपटने का यही तरीका है कि हम तेल, गैस और कोयले को उनके प्राकृतिक जगहों में छोड़ देंः डीकैप्रियो

डीकैप्रियो ने कहा, "अगर हम फ़ॉसिल फ्यूल को उनके प्राकृतिक भंडार में नहीं छोडेंगे तो हम धरती को नहीं बचा पाएंगे. 20 साल पहले हमने इस समस्या को एक बुरी लत माना था. आज हमारे पास वो साधन हैं जिनसे हम इस निर्भरता से छुटकारा पा सकते हैं."

अवार्ड लेने के बाद डीकैप्रियो ने कहा कि उन्होंने आर्कटिक ग्लेशियर से लेकर किसानों की फसलों पर पड़ रहे जलवायु परिवर्तन के भयानक असर को खुद देखा है. 

वर्ल्ड इकॉनॉमिक फ़ोरम में दुनिया की बेहतरी में मदद करने वाले कलाकारों को क्रिस्टल अवार्ड दिया जाता है. इस साल ये अवार्ड चार कलाकारों को दिया गया.

डीकैप्रियो के अलावा पुरस्कार पाने वालों में अमेरिकी संगीतकार विल आईएम, डेनमार्क के कलाकार ओलाफ़र एलियाज़न और चीनी अभिनेत्री याओ चेन शामिल हैं.

इस मौके पर डीकैप्रियो ने डीकैप्रियो फाउंडेशन के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के लिए 1.5 करोड़ डॉलर देने की घोषणा भी की.

First published: 21 January 2016, 16:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी