Home » इंटरनेशनल » PM Modi & President Putin witness exchange of 16 agreements across different fields
 

भारत-रूस के बीच एक अरब डॉलर की कोमोव हेलीकॉप्टर डील समेत 16 समझौतों पर मुहर

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 October 2016, 15:03 IST
(ट्विटर)

भारत और रूस के बीच 16 अहम समझौतों पर मुहर लगी है. गोवा की राजधानी पणजी में ब्रिक्स सम्मेलन से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच मुलाकात हुई. इस दौरान द्विपक्षीय संबंधों पर भी चर्चा हुई.

एक अरब डॉलर की कोमोव मिलिट्री हेलीकॉप्टर डील को काफी अहम माना जा रहा है. दोनों देशों के बीच 200 कोमोव हेलीकॉप्टर को लेकर करार पर दस्तखत हुए हैं. रक्षा क्षेत्र में एयर डिफेंस सिस्टम एस-400 के साथ ही गैस पाइपलाइन स्टडी, न्यूक्लियर एनर्जी, शिक्षा और रेलवे के क्षेत्र में कुल मिलाकर 16 समझौतों पर दस्तखत किए गए.

इन समझौतों से भारत और रूस के बीच संबंधों का नया आयाम स्थापित होने की उम्मीद है. इसके साथ ही आंध्र प्रदेश और हरियाणा में स्मार्ट सिटी, शिक्षा, रेल की स्पीड बढ़ाने को लेकर भी अहम समझौतों पर मुहर लगी. 

रक्षा के क्षेत्र में भारत और रूस के बीच एयर डिफेंस समझौते को भी अहम माना जा रहा है. एयर डिफेंस सिस्टम एस-400 ट्राइअम्फ लंबी रेंज की क्षमता वाले होते हैं. इसके जरिए विमान, मिसाइल और दुश्मन के ड्रोन को 400 किलोमीटर तक के दायरे में मार गिराया जा सकता है.

रूस के साथ इस अहम रक्षा करार के साथ ही चीन के बाद भारत इस मिसाइल सिस्टम का दूसरा बड़ा ग्राहक बन गया है. इसकी खरीद से भारत की रक्षा प्रणाली मजबूत होगी.

एएनआई

'पुराना दोस्त दो नए दोस्तों से बेहतर'

पीएम मोदी ने इस दौरान राष्ट्रपति पुतिन के साथ ही दोनों देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा,  "भारत और रूस आपसी सहयोग को नए युग में ले जाने पर सहमत हुए हैं. दोनों देश जहां रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में मिलकर काम करेंगे वहीं रूस भारत को मेक इन इंडिया में मदद करने पर सहमत हुआ है.

पीएम ने भारत-रूस के संबंधों का जिक्र करते कहा, "रूस भारत का पुराना सहयोगी है और एक पुराना दोस्त दो नए दोस्तों से बेहतर होता है. भारत इस महत्व को जानता है."

आतंकवाद के मुद्दे पर भी पीएम मोदी ने राय रखते हुए कहा, "भारत और रूस आतंकवाद के वैश्विक खतरे का मुकाबला मिलकर करेंगे. भारत और रूस ब्रिक्स समेत तमाम मंचों पर मिलकर काम कर रहे हैं. वैश्विक मंचों पर वैश्विक मसलों के समाधान के लिए दोनों देश मिल-जुलकर काम करेंगे."

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट करते हुए आतंकवाद पर पीएम मोदी के संबोधन का जिक्र किया. पीएम मोदी ने आतंकवाद का मुकाबला करने में रूस की समझ और सीमा पार से आतंकवाद के खिलाफ भारत की कार्रवाई का समर्थन करने के लिए रूस की प्रशंसा की.

रूसी भाषा में भाषण का आगाज

इससे पहले पीएम मोदी ने रूसी भाषा में अपने भाषण की शुरुआत की. पीएम मोदी ने कहा कि भारत और रूस तमाम क्षेत्रों में क्षमतावान हैं. दोनों देशों के मिलकर काम करने से न केवल दोनों देशों के नागरिकों का जीवन बेहतर होगा, बल्कि दुनिया में भी बड़े बदलाव का कारण बनेगा.

पीएम मोदी ने अपने संबोधन का अंत भी रूसी भाषा में किया. गोवा की राजधानी पणजी में आज से ब्रिक्स समिट शुरू हो रही है. पांच देशों के इस सम्मेलन में आपसी संबंधों के साथ ही वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा होने वाली है.

First published: 15 October 2016, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी