Home » इंटरनेशनल » Masood Azhar writes column and said false news was being spread about the losses incurred by Jaish E Mohammad
 

आतंकी मसूद अजहर की पीएम मोदी को चुनौती, अखबार में लेख लिखकर दी धमकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 March 2019, 10:11 IST

आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने सोशल मीडिया में आ रहीं अपनी मौत की खबरों के बीच एक अखबार में एक लेख लिखकर इन खबरों का खंडन किया. साथ ही उसने भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक में जैश ए मोहम्मद को हुए कथित नुकसान को भी महज अफवाह ठहराया. मसूद ने अपने इस लेख में कहा कि उसके स्वास्थ्य को लेकर जो खबरें फैलाई जा रही हैं वो सब झूठी हैं. वहीं एयर स्ट्राइक में जैश को हुए नुकसान पर कहा कि, 'ऐसा कुछ नहीं हुआ. सभी जिंदा हैं.’

आतंकी मसूद अजहर ने ये लेख जेईएम के साप्ताहिक अखबार अल-कलाम जेईएम में अपने उपनाम सादी के तहत लिखा है. इस लेख में उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उसके साथ शूटिंग या तीरंदाजी प्रतियोगिता करने के लिए कहा है. जिससे कि यह पता चल सके कि वह मेडिकली कितना फिट है.

मीडिया रिपोर्ट्स में इस लेख के बारे में कहा गया है कि वो इस बात का दावा नहीं करते कि इस लेख को खुद मसूद अजहर ने लिखा है कि नहीं. बता दें कि अल-कलाम जेईएम के मुखपत्र के तौर पर जाना जाता है. वहीं सादी अजहर का उपनाम है. अपनी स्थिति और संगठन की तुलना पैगंबर मोहम्मद के समय रहे मुस्लिमों से करते हुए अजहर ने कहा कि वह और उसके समर्थक ठीक हैं.
आतंकी अजहर का कहना है कि कश्मीरियों की आग जिसकी शुरुआत आदिल अहमद डार ने की थी, वह जल्द ही बुझने वाली नहीं है. उसने जम्मू-कश्मीर में चल रही आतंकी गतिविधियों को आजादी की लड़ाई करार दिया. अपने लेख में मसूद ने दावा किया कि समय बढ़ने के साथ यह पूरे क्षेत्र और घाटी के बाहर फैल जाएगी. क्योंकि इस तरह के आंदोलन बढ़ते जा रहे हैं.

अजहर ने इस लेख में लिखा, क्षेत्र में परिस्थिति संकटपूर्ण हैं. उसने अफगानिस्तान में घट रही घटनाओं को लेकर ध्यान आकर्षित किया. वहीं इस लेख में मसूद की सेहत के बारे में कहा कि, यह एक ऐसा विषय है जिसपर वह बात करने का इच्छुक नहीं है लेकिन उसके खिलाफ चल रहे प्रोपगैंडा की वजह से उसे इसके बारे में बात करने पर मजबूर होना पड़ रहा है. उसका दावा है कि वह स्वस्थ है.

इस लेख में मसूद ने लिखा है, "मैं पूरी तरह से ठीक हूं. मेरी किडनी और लीवर पूरी तरह से ठीक हैं." उसका कहना है कि वह पिछले 17 सालों से कभी अस्पताल नहीं गया और उसने कई सालों से किसी डॉक्टर से संपर्क नहीं किया है. उसका कहना है कि कुरान प्रेरित आहार ने उसे उच्च रक्तचाप और मधुमेह जैसी बीमारियों के चंगुल से मुक्त रखा है.

मसूद ने कहा कि, "चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है." उसने लिखा कि, खाली समय में वह तीरंदाजी का अभ्यास करता है. साथ ही उसने अपने इस लेख में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में लिखा कि, "मैं उनके उलट पूरी तरह से फिट हूं. मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि मेरे साथ कोई खेल, तीरंदाजी या शूटिंग प्रतियोगिता करें ताकि यह साबित हो सके कि मैं उनसे ज्यादा स्वस्थ हूं.”

न्यूजीलैंड हमला: मस्जिदों में फायरिंग के बाद 9 भारतीय लापता, 49 लोगों की मौत

First published: 16 March 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी