Home » इंटरनेशनल » Modi in Nepal : Exchange facility of high denomination Indian currency sought
 

500 और 2000 के नए भारतीय नोटों के कारण कैसे ठप्प पड़ गया है नेपाल का होटल कारोबार ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 May 2018, 13:38 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के नेपाल दौरे पर हैं. इस बीच नेपाल के कई कारोबारी उनकी इस यात्रा से बड़ी उम्मीद लगाए हुए हैं. नोटबंदी के बाद नेपाल में बड़ी संख्या में 500 और 1000 के भारतीय नोट मौजूद हैं, जिन्हें अभी आरबीआई ने वापस नहीं लिया है. हिमालय टाइम्स की मानें तो नेपाल में कई होटल के मालिकों से नेपाल के पीएम ओली से आग्रह किया है कि वह नोटबंदी के बाद 500 और 2000 के भारतीय नोटों के सम्बन्ध में पीएम मोदी से जल्द समझौता करें. होटल मालिकों का कहना है कि इस तरह के भारतीय मुद्रा नोटों के लिए विनिमय सुविधा के कारण नेपाल में भारतीय पर्यटकों की संख्या में लगातार कमी आ रही है.

हिमालय टाइम्स के अनुसार होटल एसोसिएशन नेपाल (एचएएन) के अध्यक्ष अमर मैन श्रेस्थ की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल ने नेपाल के विदेशी मुद्रा विभाग नेपाल बैंक (एनआरबी) के अधिकारियों से मुलाकात की और उनसे अनुरोध किया कि वे नेपाल में 500 रुपये और 2,000 बैंक नोटों के लेनदेन की अनुमति दें. भारत सरकार ने नेपाल को पहले से ही 500 और 2000 के नए भारतीय नोटों के उपयोग करने की इजाजत दे दी है. हालांकि, नेपाल सरकार ने देश में अभी इनका उपयोग करने की इजाजत नहीं दी है.

नेपाल का दौरा करने वाले पर्यटकों में भारत एक प्रमुख देश है और सभी भारतीय पर्यटक का क्रेडिट कार्ड यहां चलता नहीं है. यात्रा करने वालों में अधिकतर छोटी यात्रा के लिए नेपाल आते हैं और नकद लेना ही पसंद करते हैं. इस बीच एनआरबी के डिप्टी गवर्नर चिंतमनी सिवाकोटी ने कहा कि भारत सरकार को पहले एनआरबी को अनुरोध करने के लिए एक पत्र लिखना चाहिए ताकि उच्च भारतीय बैंक नोट्स से लेनदेन की अनुमति दी जा सके.

 

वर्तमान में भारतीय सरकार भारतीय और नेपाली नागरिकों को 25,000 रुपये तक नकद में रखने की इजाजत देती है, लेकिन भारत सरकार ने नोटबंदी के बाद भारतीय मुद्रा के लिए विनिमय सुविधा प्रदान नहीं की है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व उनके नेपाली समकक्ष के.पी.शर्मा ओली ने शुक्रवार को जनकपुर से उत्तर प्रदेश के अयोध्या को जोड़ने वाली बस सेवा को संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाई. प्रधानमंत्री मोदी ने ओली से कहा, "मेरे भाई, यह स्वागत सभी भारतीयों का सम्मान है. आपने यहां जिस तरीके से मेरा स्वागत किया, मैं उससे बहुत खुश हूं."

ये भी पढ़ें : डेविड गुडॉल: एक वैज्ञानिक जिन्हें उनके देश ने नहीं दी इच्छा मृत्यु की इजाजत तो किया ये..

First published: 11 May 2018, 13:38 IST
 
अगली कहानी