Home » इंटरनेशनल » Myanmar's military clears itself over reported Rohingya muslim and women atrocities in Rakhine State
 

म्यांमार सेना ने रोहिंग्या मुसलमानों के साथ बर्बरता से किया इनकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 November 2017, 13:16 IST

म्यांमार की सेना ने रखाइन प्रांत में अभियान चलाने के दौरान रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या करने, महिलाओं के साथ बलात्कार और अत्याचार करने के आरोपों से मंगलवार को फिर इनकार किया. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, अगस्त में रोहिंग्या विद्रोहियों के एक समूह द्वारा पुलिस चौकियों पर हमला किए जाने के बाद हालिया सैन्य अभियान की शुरुआत हुई, जिसके चलते अल्पसंख्यक समुदाय के 6 लाख 14 हजार से अधिक लोगों को बांग्लादेश भागना पड़ा.

सैन्य अभियान की कई संगठनों ने निंदा की और संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार उच्चायुक्त ने इसे 'जनजातीय सफाया' करने वाला कदम बताया. वहीं, सेना की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सेना ने हमेशा इस बात को सुनिश्चित किया है कि सुरक्षा बल कानून के मुताबिक काम करें और निर्दोष नागरिकों की हत्या नहीं हो.

रिपोर्ट में कहा गया, "सुरक्षा बलों ने नागरिकों को गिरफ्तार नहीं किया. उन्हें नहीं मारा-पीटा और उनकी हत्या नहीं की. उन्होंने संपत्ति नहीं लूटी या नष्ट नहीं की.. किसी ग्रामीण को धमकाया या डराया नहीं." सेना ने कहा कि उसकी रिपोर्ट 3,217 रोहिंग्या ग्रामीणों से बातचीत पर आधारित है, जिन्हें देश के (म्यांमार) नागरिक के रूप में नागरिकता नहीं मिली है और रिपोर्ट में उन्हें बांग्लादेशी कहा गया है..

वरिष्ठ जनरल मिन आंग ह्लेइंग के फेसबुक पेज पर प्राकशित रिपोर्ट के मुताबिक, 376 विद्रोहियों और सुरक्षाबलों के 13 सदस्यों की मौत संघर्ष में हुई है, जिन्हें 'बंगाली आतंकवादी' कहा गया है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि पलायन कर रहे लोगों को एक भी गोली नहीं मारी गई और विद्रोहियों को जिनेवा समझौते के प्रावधानों के अनुसार ही गिरफ्तार किया गया.

मानवाधिकार संगठन एमेनस्टी इंटरनेशनल (एआई) ने इस रिपोर्ट को म्यांमार सेना द्वारा मानवता के खिलाफ अपराध को छुपाने के रूप में वर्णित किया है.

First published: 14 November 2017, 13:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी