Home » इंटरनेशनल » NASA SpaceX Rocket launch to ISS with two astronauts after Nine year
 

NASA ने 11 साल बाद फिर रचा में इतिहास, SpaceX का ह्यूमन स्पेस मिशन लॉन्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 May 2020, 8:44 IST

NASA SpaceX launch: अमेरिका स्पेस एजेंसी नासा (NASA) ने नौ साल एक बार फिर से इतिहास रच दिया. इस बार नासा ने नासा स्पेसएक्स डेमो-2 मिशन (SpaceX Demo-2 Mission) को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया. स्पेसएक्स (SpaceX) की लॉन्चिंग फ्लोरिडा (Florida) स्थित केप कनवल में जॉन एफ केनेडी स्पेस सेंटर (John F Kennedy Space Center) से की गई. बता दें कि अमेरिका ने करीब नौ साल बाद अपनी धरती से स्पेस में अंतरिक्ष यात्रियों को भेजा है. नासा के एडमिनिस्ट्रेटर जिम ब्राइडेनस्टीन ने लॉन्चिंग से जुड़ी जानकारी साझा की हैं. बता दें कि जॉन एफ केनेडी से सेंटर से ही पृथ्वी से चांद को छूने वाले मिशन की नींव रखी गई थी.

भारतीय समयानुसार आधी रात करीब 12 बजकर 52 मिनट पर नासा के अपने दो अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेसएक्स से इंटरनेशनल स्पेट स्टेशन के लिए उड़ान भरी. इस दौरान अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उप-राष्ट्रपति भी वहीं मौजूद रहे. स्पेसएक्स के उड़ान भरते ही राष्ट्रपति ट्रंप ने ताली बजाकर मिशन के कामयाब होने का संकेत दिया. बता दें कि स्पेसएक्स के साथ नासा के दो अंतरिक्ष यात्री रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले आईएसएस गए हैं.


सूरज की रोशनी में आई पांच गुना कमी, नौ हजार साल से जारी है ये सिलसिला, वैज्ञानिक हैरान

नासा के एडमिनिस्ट्रेटर जिम ब्राइडेनस्टीन ने ट्वीट करके बताया कि, "9 साल में पहली बार अब हमने अमेरिकी अतरिक्ष यात्रियों को अमेरिकी रॉकेट के जरिए अमेरिका की धरती से भेजा है. मुझे नासा और SpaceX टीम पर गर्व है, जिसने हमें इस क्षण को देखने का मौका दिया है. यह एक बहुत अलग तरह की अनुभव है, जब आप अपनी टीम को इस रॉकेट (Falcon 9) पर देखते हैं. ये हमारी टीम है. यह लॉन्च अमेरिका है"

सावधान: करोड़ों भारतीयों की निजी जानकारी लीक, कहीं आपका फोन नंबर तो नहीं हो गया हैक

बता दें कि तीन दिन पहले भी स्पेसएक्स को लॉन्च किया जाना था, लेकिन खराब मौसम के चलते इसकी उल्टी गिनती रोक दी गई गई. शनिवार को जब इसे लॉन्च किया जा रहा था तब भी आसमान में बादल छाए हुए थे, लेकिन नासा ने इसे लॉन्च कर इतिहास रच दिया. लॉन्चिंग से पहले दोनों अंतरिक्ष यात्रियों को पूरी तरह से तैयार किया गया और उसके बाद वो SpaceX रॉकेट में सवार हुए. काउंटडाउन खत्म होने के साथ ही यान अंतरिक्ष की ओर उड़न भरने लगा.

चीन के शोधकर्ताओं का दावा : Covid-19 वैक्सीन का पहला मानव परीक्षण सफल रहा 

Coronavirus : भारत में बन रहे कोविड-19 टीकों का अगले 3 से 5 महीने में शुरू होगा क्लीनिकल ट्रायल

इससे पहले बुधवार को खराब मौसम की वजह से लॉन्चिंग को तय समय से 16 मिनट पहले टालना पड़ा था. एलन मस्क की कंपनी SpaceX का रॉकेट वेटरन ऐस्ट्रोनॉट्स Robert Behnken और Douglas Hurley को ISS तक ले जाने के लिए लॉन्च किया गया है. दोनों अंतरिक्ष यात्री 19 घंटे का सफर तय करते हुए इसे लेकर इंटरनैशनल स्पेस सेंटर (ISS) पहुंचेंगे. साल 2011 में स्पेस शटल प्रोग्राम खत्म होने के बाद पहली बार अमेरिकी ऐस्ट्रोनॉट्स अमेरिका की जमीन से स्पेस में भेजे गए हैं. बता दें कि अभी तक अमेरिका इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर अपने अंतरिक्ष यात्रियों को भेजने के लिए रूस के Soyuz का सहारा लेता था. इसके अलावा किसी प्राइवेट कंपनी के रॉकेट से स्पेस जाने का भी यह पहला मौका है.

हिन्‍द महासागर में मौजूद विशाल टेक्टोनिक प्लेट को लेकर शोध में हुआ ये चौंकाने वाला खुलासा

First published: 31 May 2020, 8:47 IST
 
अगली कहानी