Home » इंटरनेशनल » NASA succeeded to grow first flower in space
 

पहली बार खिला अंतरिक्ष में फूल

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 January 2016, 14:10 IST

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के अंतरिक्ष यात्री स्कॉट केली ने शनिवार को नासा के सोशल मीडिया पर एक फूल की फोटो शेयर की. ऐसा पहली बार हुआ है जब पृथ्वीवासी अंतरिक्ष में फूल उगाने में सफल हुए हैं.

नासा ने घोषणा की है कि उन्होंने नवंबर में फूल उगाने की योजना पर काम शुरू किया था. यह फूल ऐसी जगह खिला है जहां शून्य गुरुत्वाकर्षण है.

केली ने शनिवार को ट्विटर पर फोटो शेयर करते हुए बताया, कि जिन्निया पौधे का एक फूल खिला है. उन्होंने फोटो के साथ लिखा, "अंतरिक्ष में खिलने वाला आज तक का पहला फूल." उन्होंने आगे लिखा, "हां, अंतरिक्ष में जीवन के अन्य रूप मौजूद हैं."

zinnia flower in space twitter.jpg

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की टीम ने पिछले साल के अंत में डेज़ी परिवार के सूरजमुखी प्रजाति के पौधों में से एक जिन्निया को उगाया.

पिछले साल अगस्त में टीम ने अंतरिक्ष में उगाए सलाद के पत्ते को चखा था और उसे चखने के बाद "बहुत बढ़िया" करार दिया था.

नवंबर में जिन्निया फूल परियोजना शुरू करने के बाद केली ने उल्लेख किया था कि अत्यधिक नमी और सीमित हवा के प्रवाह के बीच पौधे ने मुरझाना शुरू कर दिया था.

केली ने कहा इसके बाद उन्होंने पौधे के देखभाल के तरीकों और उसे पानी देने के वक्त में भी बदलाव किया. 

zinnia flower in space twitter.jpg

वेजी प्रोजेक्ट के प्रबंधक ट्रेंट स्मिथ ने कहा, "जिन्निया का पौधा सलाद के पत्ते से बहुत अलग है, यह पर्यावरणीय मानकों और प्रकाश विशेषताओं के प्रति संवेदनशील है. इसे उगने में भी लंबा वक्त लगता है और यह 60-80 दिन लेता है. इसलिए इस पौधे को उगाने और फूल देने के लिए तैयार करने में ज्यादा कठिनाई होती है. लंबे वक्त में इसके उगने की क्षमता के कारण यह टमाटर के पौधे को उगाने के लिए अच्छा प्रयोग रहा."

केली और उनकी टीम का मिशन अंतरिक्ष में लंबे वक्त तक रहने के प्रभाव का अध्ययन करना था.

पृथ्वी की सीमा के बाहर पौधों को विकसित करने की क्षमता अंतरिक्ष, मंगल और अन्य ग्रहों में मानव बस्तियों की स्थापना की दिशा में एक छोटा सा कदम है.

zinnia flower in space twitter.jpg

नासा ने पौधों और फूलों के उत्पादन के लिए 2014 में वेजी प्रोजेक्ट की घोषणा की थी.

आप कल्पना कर सकते हैं, अंतरिक्ष में हमारे सामने तमाम चुनौतियां हैं. जैसे कुछ भी उगाने के लिए पानी देना भी टेढ़ी खीर है. इसके लिए टीम ने एक विशेष सिंचाई प्रणाली विकसित की और पौधे को नीचे से नमी पहुंचाई. 

First published: 18 January 2016, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी