Home » इंटरनेशनल » NATO, US unable to stop Russia in Baltic: RAND Corp.
 

नाटो और अमेरिका भी नहीं रोक पाएंगे रूस को: रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2016, 15:05 IST

अमेरिकी थिंक टैंक रैंड फाउंडेशन ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है कि रूस अगले 60 घंटे में पूर्वी यूरोप के दो देशों पर अपना कब्जा जमा सकता है.

थिंक टैंक के मुताबिक रूस इसलिए इन देशों पर हावी हो सकता है क्योंकि नाटो एस्टोनिया और लातविया को ठीक तरीके से सुरक्षा नहीं दे पा रहा है, वहीं दूसरी तरफ क्रीमिया शहर पर कब्जा कर चुके रूस की इन क्षेत्र में सामरिक स्थिति काफी मजबूत हो गई है.

अंग्रेजी अखबार डेली मेल में प्रकाशित थिंक टैंक रैंड फाउंडेशन की रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि रूस लातवियाई बॉर्डर की तरफ से बड़ी संख्या में अपनी आर्मी को भेज सकता है और अगर लातविया में रूस की विजय होती है तो दूसरी बटालियन एस्टोनिया में दाखिल होकर कैपिटल ताल्लिन पर कब्जा करने का प्रयास कर सकती है.

रिपोर्ट के अनुसार लातवियाई और नाटो सेना के पास रूस की इन बटालियनों से युद्ध करने की क्षमता नहीं है. सामरिक क्षमता के मद्देनजर इस रिपोर्ट में इस बात की चेतावनी भी दी गई है कि नाटो की ग्राउंड फोर्सेज रूस का सामना नहीं कर सकतीं हैं. उनके पास कोई बैटल टैंक नहीं है जबकि रूस की सभी बटालियनों के पास टैंक भी मौजूद हैं. इसके साथ ही नाटो के पास इन इलाके में युद्धाभ्यास के लिए जगह भी नहीं है.

अमेरिकी थिंक टैंक के अनुसार साल 2014 और 2015 के बीच किए गए अध्ययन में यह भी बताया गया है कि बाल्टिक सेना और अमेरिका हवाई हमलों से भी रूस को रोकने का प्रयास करेंगे तो उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा. 

साल 1990 में सोवियत यूनियन के विखंडन के बाद एस्टोनिया, लातविया और लिथुआनिया समेत कई देश यूरोपियन यूनियन में शामिल हो गए थे.

रूस अपनी पुरानी साख को एक बार फिर जिंदा करते हुए सोवियत यूनियन के बिखरे हुए देशों पर कब्जा करना चाहता है. रूस का दावा रहा है कि पूर्व सोवियत के इन देशों में आज भी बड़ी संख्या में रूसी लोग रहते हैं.

First published: 6 February 2016, 15:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी