Home » इंटरनेशनल » Nawaz Sharif facing criticism from his admission on the 2008 Mumbai terror attack
 

पाकिस्तान: 26/11 मुंबई अटैक पर दिए गए बयान से आए भूचाल के बाद नवाज ने दी ये सफाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 May 2018, 12:10 IST

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का एक दिन पहले ही मीडिया ने बयान जारी किया था. इस बयान में कहा गया था कि नवाज शरीफ ने माना है कि साल 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तानी आतंकियों का हाथ था. इसे लेकर नवाज शरीफ की काफी आलोचना हो रही थी. अब उन्होंने इस पर अपनी सफाई दी है.

नवाज शरीफ ने इसके लिए मीडिया को जिम्मेदार ठहराया है. शरीफ ने कहा कि मीडिया ने उनकी बातों को गलत तरीके से पेश किया. नवाज शरीफ की पार्टी के प्रवक्ता ने भी कहा कि नवाज शरीफ के मुंबई हमलों पर दिए बयान को भारतीय मीडिया ने बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया. इसके अलावा पाकिस्तान के इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया में इस बात को लेकर हंगामा मचा. मीडिया ने जो बातें सामने रखीं, उसमें किसी तरह की सच्चाई नहीं हैं. प्रवक्ता के बयान को उनकी बेटी मरियम नवाज ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है. 

प्रवक्ता ने कहा कि पीएमएल-एन देश की एक प्रमुख राजनीतिक पार्टी है और नवाज शरीफ उसके बड़े नेता है. नवाज को अपनी प्रतिबद्धताओं और क्षमताओं के लिए किसी को कोई सर्टिफिकेट देने की जरूरत नहीं है. प्रवक्ता ने कहा कि वो नवाज शरीफ ही थे, जिन्होंने देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए मई, 1998 में परमाणु परीक्षण करने का सबसे कठिन फैसला लिया था.

नवाज की पार्टी के प्रवक्तता ने अपने बयान में नवाज के भाई शाहबाज को लेकर दिए बयान को भी तोड़-मरोड़कर पेश करने की बात कही है. बयान के मुताबिक, मियां शाहबाज शरीफ पीएमएल-एन के निर्वाचित अध्यक्ष हैं. वह चुनावी अभियान में सबसे आगे हैं और पीएमएलएन के संदेश को देश के हर कोने तक पहुंचा रहे हैं. इसलिए, भविष्य में उनकी भूमिका और जिम्मेदारियों को लेकर कोई भ्रम नहीं है.

आपको बता दें कि 12 मई को पाकिस्तान के प्रमुख अंग्रेजी अखबार डॉन को दिए इंटरव्यू में नवाज शरीफ ने कहा था, "क्या हमें आतंकियों को सीमा पार जाने देना चाहिए और मुंबई में 150 लोगों को मारने देना चाहिए?" नवाज ने कहा था कि पाकिस्तान में अभी भी आतंकी संगठन सक्रिय हैं.

पढ़ें- नवाज शरीफ का कबूलनामा- 26/11 मुंबई हमले के पीछे था पाकिस्तान का हाथ

इस बीच नवाज के बयान को लेकर पाक आर्मी ने सोमवार को उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है. आर्मी के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्विटर पर बताया कि प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने नेशनल सिक्युरिटी कमेटी की बैठक बुलाने का सुझाव दिया था.

बता दें कि 26/11 के मुंबई हमले में 166 लोग मारे गए थे. वहीं 10 में से 9 आतंकियों को मार गिराया गया था. इसके अलावा कसाब नामक आतंकी को जिंदा पकड़ा गया था जिसे बाद में भारत में फांसी दे दी गई थी.

First published: 14 May 2018, 10:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी