Home » इंटरनेशनल » Nepal said - India is spreading corona virus, said - more dangerous than China and Italy
 

नेपाल का आरोप- भारत फैला रहा है कोरोना वायरस, बताया- चीन और इटली से ज्यादा खतरनाक

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 May 2020, 15:29 IST

Coronavirus : नेपाल ने देश में कोरोना वायरस के मामलों के बढ़ने के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया है. नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कहा कि भारत का वायरस चीन और इटली के लोगों की तुलना में अधिक घातक दिख रहा है. एक रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को ओली ने कहा कि जो लोग अवैध चैनलों के माध्यम से भारत से आ रहे हैं, वे देश में वायरस फैला रहे हैं और कुछ स्थानीय प्रतिनिधि और पार्टी नेता बिना उचित परीक्षण के भारत से लोगों को लाने के लिए जिम्मेदार हैं.

ओली ने कहा "बाहर से लोगों के आने कारण कोविड-19 को रोकना बहुत मुश्किल हो गया है. भारतीय वायरस अब चीन और इटली से अधिक घातक लग रहा है." अभी नेपाल ने कोरोना वायरस के 402 मामले हैं और मरने वालों की संख्या 2 है. भारत के विदेश मंत्रालय ने ओली के इस बयान पर अभी कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं दी है. इससे पहले भी नेपाल सीमा विवाद को लेकर भारत पर टिप्पणियां कर चुका है.


भारत ने उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में हाल ही में लिपुलेख-धाराचूला मार्ग का उद्घाटन किया था, जिस पर नेपाल ने आपत्ति जताई थी. काठमांडू ने कहा कि सड़क को उसकी सीमाओं के अंदर बनाई गई है. दोनों देश 1,800 किलोमीटर खुली सीमा साझा करते हैं. भारत के साथ सीमा विवाद के बीच नेपाल के मंत्रिमंडल ने लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा को अपना हिस्सा बताते हुए नए राजनीतिक मानचित्र को मंजूरी दी है.

पहले नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने कहा था कि राजनयिक पहल के माध्यम से भारत के साथ सीमा विवाद मुद्दे को हल करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. नेपाल के सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के सांसदों ने भी संसद में एक विशेष प्रस्ताव भी पेश किया है जिसमें कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख में नेपाल के क्षेत्र की वापसी की मांग की गई है.

Coronavirus: ब्राजील में मौतों को रोकना हुआ मुश्किल, राष्ट्रपति बोल्सोनारो ने खरीदी क्लोरोक्वीन

लॉकडाउन में घर से घूमने निकला था परिवार, सड़क पर मिले 10 लाख डॉलर

First published: 20 May 2020, 15:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी