Home » इंटरनेशनल » North Korea Annouces to destroy its Nuclear Test Site before meeting with America
 

आखिर क्यों नरम पड़ गया उत्तर कोरिया के तानाशाह का रुख ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 May 2018, 16:04 IST

उत्तर कोरिया ने कहा है कि वह अमेरिका से साथ होने वाली शिखर वार्ता से पहले अपने परमाणु परीक्षण स्थलों को नष्ट कर देगा. गौरतलब है कि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 12 जून को शिखर वार्ता करेंगे. इससे पहले उत्तर कोरिया ने घोषणा कर दी है वह आमंत्रित विदेशी मीडिया के सामने इन सुरंगों को उड़ा देगा.

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पुंग्ये-री परीक्षण स्थल को नष्ट करने के उत्तर कोरिया के फैसले की तारीफ की है. ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आपका शुक्रिया. आपने बहुत अच्छा संकेत दिया है.’’

सिंगापुर में होगी ट्रंप-किम की मुलाकात

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के तेवर नरम पड़ने लगे हैं. यही वह है कि पिछले महीने किम ने चीन की यात्री की. अब वो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकत के लिए राजी हो गए हैं. दोनों नेताओं बीच 12जून को सिंगापुर में एक शिखर बैठक होगी. बता दें कि उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के नेताओं के बीच पहले ही बातचीत हो चुकी है. ये पहला मौका होगा जब किम किसी पड़ोसी देश के नेताओं से मुलाकात के बाद किसी दूसरे मुल्क के नेता से मिलेंगे.

उधर जानकारों का कहना है कि उत्तर कोरिया ने अब तक अपने हथियारों को नष्ट करने की सार्वजनकि घोषणा नहीं की है. बता दें कि इन हथियारों में ऐसी मिसाइलें भी बताई जा रही हैं जो अमेरिका तक मार करने में सक्षम हैं. वहीं अमेरिका अब उत्तर कोरिया को पूरी तरह से परमाणु मुक्त देखना चाहता है.

उत्तर कोरिया पुंग्ये-री में करता है परमाणु परीक्षण

बता दें कि आर्थिक तंगी के बावजूद उत्तर कोरिया आए दिन परमाणु परीक्षण करता रहा है. लेकिन हाल ही में किम में तमाम बदलाव देखे गए हैं जिनमें दूसरे देशों की यात्री सहित परमाणु परीक्षण रोकना तक शामिल है.

उत्तर कोरिया पुंग्ये-री में ही अपने परमाणु परीक्षण करता है. ये जगह देश के उत्तरपूर्वी हिस्से में स्थित है. उत्तर कोरिया ने पिछले साल सितंबर में यहीं पर परमाणु परीक्षण किया था. जिसके बाद उत्तर कोरिया ने दावा किया था कि यह हाइड्रोजन बम है.

सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए के मुताबिक, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा है कि जो नए उपाय किए गए हैं उसके मुताबिक, परीक्षण स्थल को नष्ट कर दिया जाएगा और प्रवेश द्वार को उड़ा कर उसे पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें- चीन ने अपनी ताकत में किया इजाफा, विकसित किया ये पहला स्वदेशी विमानवाहक पोत

First published: 13 May 2018, 16:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी