Home » इंटरनेशनल » North Korea will continues nuclear development program in 2018,us, south korea,china
 

उत्तर कोरिया ने दुनिया को नजरअंदाज करते हुए 2018 के लिए किया बड़ा एलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2017, 14:31 IST

उत्तर कोरिया को पूरी दुनिया को नजरअंदाज़ करते हुए साल 2018 के लिए बड़ा एलान किया. नार्थ कोरिया ने ये ऐलान अपने परमाणुु कार्यक्रम के विकास के लिए किया.

नार्थ कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए ने शनिवार को एक रिपोर्ट जारी कर इसकी जानकारी दी. केसीएनए की रिपोर्ट में स्पष्ट कहा गया कि उत्तर कोरिया से उनकी नीति में किसी प्रकार के बदलाव की अपेक्षा ना करें. इस रिपोर्ट में 2017 की परमाणु कार्यक्रम के विकास से संबधित उपलब्धियों को भी शामिल किया गया है.

केसीएनए ने रिपोर्ट में कहा, एक अजेय शक्ति के रूप में उत्तरी कोरिया के अस्तित्व को ना ही कमजोर किया जा सकता है और ना ही नकारा जा सकता है. एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति के रूप में उत्तर कोरिया सभी बाधाओं को पार करते हुए स्वतंत्रता और न्याय की राह पर चलेगा."

केएनसीए की इस रिपोर्ट में कहा गया कि "जब तक अमेरिका और उसके अधीन शक्तियां उसके लिए परमाणु खतरा बनी रहती हैं तब तक उत्तर कोरिया आत्मरक्षा के लिए और हमले की संभावनाओं को देखते हुए अपनी परमाणु शक्तियों का विस्तार करता रहेगा."

केएनसीए की इस रिपोर्ट में अमेरिका के प्रमुख स्थानों" पर हमला करने की प्योंगयांग की नई क्षमताओं पर भी जोर डाला गया है. इस रिपोर्ट में उत्तर कोरिया को "विश्व स्तरीय परमाणु शक्ति" बताया गया है. उत्तर कोरिया ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा कि उसकी तरफ से युद्ध की घोषणा का निश्चित रूप से नार्थकोरिया जवाब देगा.

गौरतलब है कि नार्थ कोरिया ने साल 2017 में कई बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था. इसके बाद पश्चिमी देशों ने उस पर कई व्यापारिक प्रतिबंध लगाए, लेकिन नार्थ कोरिया ने इसके बावजूद अपना परमाणु कार्यक्रम जारी रखा. 

इस साल 29 नवंबर को नार्थ कोरिया ने पूरी दुनिया को भड़काते हुए लंबी दूरी की आधुनिक अन्तरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया था. ये मिसाइल पहले से ज्यादा सटीक और ज्यादा मारक थी. नार्थ कोरिया ने दावा किया कि इनकी पहुंच अमेरिका तक है.

इस परीक्षण के बाद नार्थ कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र परिषद ने कई तरह के नए बैन लगाए थे. इसके बाद नार्थ कोरिया ने इसे युद्ध की कार्रवाई बताया था. उसने अमेरिका और अन्य विरोधी देशों को उसके गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी थी. ये मिसाइल परीक्षण अमेरिका ने दो महीने के ब्रेक के बाद किये थे. रुस ने इन दोनों के बीच मध्यस्थता की कोशिश भी की.

First published: 30 December 2017, 14:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी