Home » इंटरनेशनल » pak-jit: pathankot attack staged by india to defame pakistan
 

पाकिस्तान: जेआईटी ने पठानकोट हमले को भारत का नाटक कहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2016, 13:14 IST

पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले की जांच करने भारत आये पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने अपनी रिपोर्ट में हमले को भारत का नाटक करार दिया है.

पाकिस्तानी जांच दल की यह रिपोर्ट कथित तौर पर लीक हो गई है, जिसके मुताबिक पाकिस्तानी मीडिया ने पठानकोट हमले में पाकिस्तान की भूमिका न मानते हुए इसे भारत के द्वारा रचा गया नाटक बताया गया है.

पाकिस्तान के प्रमुख टीवी चैनल पाकिस्तान टुडे की खबर के मुताबिक पाकिस्तान की जेआईटी जल्द ही अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को सौंप देगी.

पढ़ें: पाकिस्तान: पठानकोट हमले के आतंकियों का हमारे मुल्क से वास्ता नहीं

अखबार में छपी रिपोर्ट में पठानकोट हमले के लिए जांच टीम ने भारत को ही जिम्मेदार माना है. रिपोर्ट के मुताबिक भारत सिर्फ विश्व समुदाय के सामने पाकिस्तान को बदनाम करना चाहता है.

इसके अलावा रिपोर्ट में जांच दल ने कहा है कि भारत दौरे के समय टीम को भारत का पूरा सहयोग नहीं मिला.  

गौरतलब है कि इससे पूर्व पठानकोट हमले की जांच कर रही जेआईटी ने भारत से वापसी के एक दिन बाद दावा किया है कि भारतीय अधिकारी उन्हें ऐसे पुख्ता साक्ष्य मुहैया कराने में असफल रहे हैं कि पाकिस्तान के आतंकवादियों ने वायुसेना बेस पर हमला किया था.

जेआईटी के मुताबिक वह आतंकी पाकिस्तान के नहीं थे.

पाकिस्तान के जिओ न्यूज ने जेआईटी के हवाले से कहा कि पाकिस्तानी जांचकर्ताओं को सैन्य बेस में मुख्य द्वार के बजाए एक छोटे रास्ते से अंदर ले जाया गया और उनका दौरा सिर्फ 55 मिनट का था.

उतने समय में उस सैन्य स्टेशन में बस थोड़ा सा ही घूमा जा सका और इतने समय में जेआईटी साक्ष्य एकत्र नहीं कर सकी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक जेआईटी सदस्यों ने 29 मार्च को पठानकोट वायुसेना बेस का दौरा किया, जहां एनआईए के अधिकारियों ने उन्हें सूचनाएं दीं और जिस रास्ते से हमलावर स्टेशन में दाखिल हुए थे वह दिखाया.

भारत के पांच दिन लंबे दौरे के बाद जेआईटी शुक्रवार को वापस पाकिस्तान लौट गई थी. इस दौरान हमले से संबंधित सबूत उनके साथ साझा किए गए, जिनमें चार आतंकवादियों के डीएनए रिपोर्ट, उनकी पहचान, जैश-ए-मोहम्मद के साथ आतंकवादियों के संबंधों वाले फोन कॉल रिकॉर्ड भी शामिल हैं.

First published: 5 April 2016, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी