Home » इंटरनेशनल » pakistan capable target delhi within 5 minutes
 

अब्दुल कदीर खान: दिल्ली को पांच मिनट में तबाह कर सकते थे

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2016, 12:46 IST
(एजेंसी )

पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक अब्दुल कदीर खान ने कहा है कि पाकिस्तान के पास साल 1984 में ही परमाणु परीक्षण करने की क्षमता थी और उसने इसकी योजना भी बनाई थी, लेकिन तत्कालीन राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक ने इस विचार का विरोध किया था, क्योंकि इससे उस समय पाकिस्तान को मिल रही अंतरराष्ट्रीय सहायता में कटौती हो सकती थी. जो उसे अफगानिस्तान पर सोवियत संघ के कब्जे की वजह से मिल रहा थी.

पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘डॉन’ ने वैज्ञानिक खान के हवाले से लिखा है कि, ‘हम लोग सक्षम थे और हमने साल 1984 में ही परमाणु परीक्षण करने की योजना बनाई थी, लेकिन तत्कालीन राष्ट्रपति जनरल जिया इसके विरोध में थे.’

खान ने कहा कि, ‘जनरल जिया का विचार था कि यदि पाकिस्तान ने परमाणु परीक्षण किया तो दुनिया पाकिस्तान की सैन्य सहायता रोक देगी.’

खान ने यह भी कहा कि पाकिस्तान पांच मिनट में काहुता से नई दिल्ली को निशाना बनाने में समर्थ था.’ काहुता पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक शहर है.

उन्होंने कहा कि, ‘मेरी सेवा के बगैर पाकिस्तान कभी भी परमाणु शक्ति संपन्न पहला मुस्लिम राष्ट्र नहीं बन पाता. हम लोग बहुत कठिन परिस्थतियों में यह क्षमता हासिल करने में समर्थ थे, लेकिन हमने यह किया.’ खान पाकिस्तान के परमाणु संपन्न देश बनने के अवसर यौम-ए-तकबीर पर एक सभा को संबोधित कर रहे थे.

मुशर्रफ के कार्यकाल में अपने साथ हुए व्यवहार के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘परमाणु वैज्ञानिकों को देश में वह सम्मान नहीं दिया जाता, जिसके वे हकदार हैं.’ खान ने कहा, ‘हम लोगों ने अपने देश के परमाणु कार्यक्रम को जो सेवा दी, उसके बदले सबसे खराब दौर का सामना कर रहे हैं.’

First published: 29 May 2016, 12:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी