Home » इंटरनेशनल » pakistan condemn jamaat-e-islami chief nizami hanging on bangladesh
 

जमात-ए-इस्लामी के निजामी की फांसी पर पाकिस्तान को खेद

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 May 2016, 15:42 IST

पाकिस्तान ने बुधवार को कट्टरपंथी जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख मोतीउर रहमान निजामी को फांसी दिए जाने पर गहरा दुख जताते हुए कहा कि निजामी का सिर्फ इतना गुनाह था कि उन्होंने पाकिस्तान के संविधान और कानून को बरकरार रखने का प्रयास किया.

पाकिस्तान के विदेश विभाग ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि, ‘पाकिस्तान जमात-ए-इस्लामी बांग्लादेश के अमीर मोतीउर रहमान निजामी को दिसंबर, 1971 से पहले के उनके कथित अपराधों के लिए फांसी दिए जाने पर दुख व्यक्त करता है.’

विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि, निजामी का गुनाह सिर्फ इतना था कि उन्होंने पाकिस्तान के संविधान और कानून को बरकरार रखने का अथक प्रयास किया था.

इस मामले में पाकिस्तान ने बांग्लादेश पर आरोप लगाते हुए कहा कि निजामी की फांसी 1974 में पाकिस्तान, बांग्लादेश और भारत के बीच हुए त्रिपक्षीय समझौते के खिलाफ है.

गौरतलब है कि बांग्लादेश के सुप्रीम कोर्ट की ओर से निजामी को साल 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान युद्ध अपराधों को अंजाम देने के लिए मौत की सजा सुनाए जाने के बाद पाकिस्तान ने ‘गहरी चिंता’ प्रकट की थी, जिसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव की स्थिति पैदा हो गई है.

इस मामले में बांग्लादेश की ओर से आठ मई को कहा गया था कि पाकिस्तान को उसके आंतरिक मामलों में दखल देने से बचना चाहिए और निजामी के मामले पर संयम और विवेक से काम लेना चाहिए.

First published: 12 May 2016, 15:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी