Home » इंटरनेशनल » Pakistan former PM Nawaz Sharif appeared to admit Pakistani terrorists carried out the 2008 Mumbai attacks
 

नवाज शरीफ का कबूलनामा- 26/11 मुंबई हमले के पीछे था पाकिस्तान का हाथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 May 2018, 18:17 IST

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मुंबई आतंकी हमले को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. शरीफ ने माना है कि मुंबई आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तानी आतंकियों का हाथ था.उन्होंने कहा कि क्या हम इन आतंकवादियों को सीमा पार 150 लोगों को मारने का आदेश दे सकते हैं.

नवाज शरीफ के इस बयान के बाद एक बार फिर से पाकिस्तान बेनकाब हो गया है. इसके साथ ही पाकिस्तान के उन दावों की भी पोल खुल गई है, जिसमें वो आतंकवाद के आरोपों से हमेशा पल्ला झाड़ता रहा है.

बता दें कि 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई के ताज होटल को अपना निशाना बनाया था. आतंकियों ने चार दिनों तक होटल में कब्जा बनाए रखा था. आतंकियों ने इसके साथ ही मुंबई के सात स्थानों पर सुनयोजित तरीके से हमला किया था. इस हमले में 166 लोग मारे गए थे. वहीं सैकड़ों लोग घायल हो गए थे.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार,नवाज शरीफ ने पाकिस्तानी अखबार डॉन को दिए इंटरव्यू में स्वीकार किया है कि पाकिस्तान में आज भी आतंकी संगठन सक्रिय हैं.

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा है कि क्या हम इन आतंकवादियों को सीमा पार मुंबई में 150 लोगों को मारने का आदेश दे सकते हैैं. उन्होंने कहा कि हमने तो मुंबई हमले की सुनवाई भी पूरी नहीं की. बता दें कि पाक ने लाहौर कोर्ट में 26/11 के मुंबई हमले की पैरवी करने वाले वकील चौधरी अजहर को हटा दिया था.

नवाज शरीफ ने कहा कि आप दो तीन सामान्तर सरकारों के साथ देश को नहीं चला सकते हो. देश चलाने के लिए संवैधानिक रूप से चुनी हुई एक सरकार का होना जरूरी है. उन्होंने कहा कि अब इसको बंद करना होगा.

पीएम पद से हटाए जाने के सवाल पर नवाज शरीफ ने कहा कि उनको अपने ही लोगों ने सत्ता से बेदखल कर दिया, कई बार समझौते होने के बाद भी मेरी बात नहीं सुनी गई. अफगानिस्तान की बात को मान लिया गया, लेकिन हमारी नहीं.

उन्होंने कहा कि देश में संविधान सबसे ऊपर है. हमने एक तानाशाह पर केस चलाया, पाकिस्तान में ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया.

गौरतलब है कि पनामा पेपर्स मामले में नवाज शरीफ का नाम आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उनको 28 जुलाई को दोषी करार दिया था. इलके साथ ही उनको पीएम पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने उनके आजीवन चुनाव लड़ने पर भी रोक लगा दी है.

First published: 12 May 2018, 17:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी