Home » इंटरनेशनल » Pakistan gets financial Aid From China, can be a trouble for India
 

पाकिस्तान को मिला हिंदुस्तान के इस विरोधी देश का साथ, दिवाली पर पाक को मिला बड़ा तोहफा

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 November 2018, 9:16 IST

पाकिस्तान की आर्थिक हालत को लेकर स्थिति सबके सामने साफ़ हो चुकी है. पाकिस्तान की सत्ता में आए इमरान खान ने पाकिस्तान की हालिया आर्थिक स्थिति के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष से भी मदद की गुहार लगाई थी. हाल ही में पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान ने चीन का दौरा किया है. इसके पीछे का मुख्य उद्देश्य चीन से आर्थिक मदद की गुहार लगाना था.

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के जानकारों की मानें तो इस समय भारत का विरोधी चीन पाकिस्तान के बुरे समय में पाक के नए प्रधानमंत्री इमरान खान के समर्थन में आ गया है.  वहीं चीन द्वारा पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक मदद को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भी चर्चा शुरू हो गई है. लेकिन चीन ने अभी भी पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक मदद की राशि का खुलासा करने से इंकार कर दिया है. चीन के दौरे से लौटे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने चीन के शीर्ष नेताओं के साथ हुई बातचीत को बेहद सफल बताया है.

गौरतलब है कि पाक पीएम इमरान खान दो नवंबर से पांच नवंबर की चीन यात्रा के दौरान चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री ली क्विंग से मिले थे. खान की यह यात्रा पाकिस्तान को आर्थिक संकट से उबरने में मदद की मांग करने के लिए थी.

दिवालिया पाकिस्तान की मदद के लिए आगे आया सऊदी अरब, दिया 6 अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज

पाकिस्तान की आर्थिक हालत के चलते सउदी अरब ने पाकिस्तान को छह अरब डॉलर की मदद की घोषणा की थी. ऐसा कहा जा रहा है कि चीन भी पाकिस्तान को इतनी ही राशि देने को तैयार है लेकिन इस बात की अभी तक कोई पुष्टि नहीं हुई है. चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने इस बारे में कहा , ''चीन अपनी क्षमता के हिसाब से मदद करेगा. हालांकि उन्होंने राशि का जिक्र नहीं किया.''

उन्होंने कहा, ''पाकिस्तान चीन का सदाबहार दोस्त है. हमारे संबंध काफी अच्छे हैं और बेहद ऊंचे स्तर पर हैं. हमने पाकिस्तान को अपनी क्षमता के हिसाब से सर्वेश्रष्ठ मदद की पेशकश की है. भविष्य में भी हम पाकिस्तान की जरूरतों और आपसी अनुबंध के आधार पर लोगों के बेहतर जीवनस्तर के लिए आर्थिक मदद देते रहेंगे.''

First published: 8 November 2018, 8:30 IST
 
अगली कहानी