Home » इंटरनेशनल » Pakistan inflation increased at 11 percent rates, People craving for vegetables
 

भारत से रिश्ता तोड़ने के बाद भूखों मरने लगा पाकिस्तान ! अब सब्जी के लिए भी तरस रहे लोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 October 2019, 17:10 IST

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाकिस्तान ने भारत से सारे व्यापारिक रिश्ते खत्म कर लिए. अब इसका खामियाजा उसे अपनी जनता को भूखों मारकर चुकाना पड़ रहा है. पाकिस्तान के लोग इन दिनों सब्जियों और चिकन के लिए भी तरसने लगे हैं. पाकिस्तान की महंगाई दर भी 11 फीसदी से ऊपर पहुंच गई है.

गौरतलब है कि पाकिस्तान में कई तरह की हरी सब्जियां भारत से सस्ते दामों में सप्लाई होती हैं. भारत से व्यापारिक रिश्ते तोड़ने के बाद वहां हरी सब्जियों की किल्लत मच गई है. एक दिन पहले ही पाकिस्तान सांख्यिकी ब्यूरो महंगाई दर के आंकड़े जारी किए हैं. इन आंकड़ों से पता चला कि सितंबर में पाकिस्तान की महंगाई दर 11.4 फीसदी पहुंच गई है. 

 
अगस्त महीने की तुलना में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से मापी गई महंगाई में 0.77 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. सितंबर में महंगाई दर 11.37 फीसदी रही, जबकि पिछले महीने 10.49 फीसदी थी. आलम यह है कि महीने दर महीने सब्जियों से लेकर खाने के दाम आसमान छूते जा रहे हैं.
 
सितंबर महीने में चिकन के दाम में 40.75 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली. वहीं टमाटर के दाम में 37.47 फीसदी, प्याज के दाम में 32.31 फीसदी, ताजी सब्जियों के दाम में 12.84 फीसदी, अंडे के दाम में 9.76 फीसदी, आलू के दाम में 6.21 फीसदी, कुकिंग ऑयल के दाम में 4.68 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली.
 
इसके अलावा घी के दाम में 4.18 फीसदी, मोटर फ्यूल के दाम में 3.88 फीसदी, चीनी के दाम में 3.78 फीसदी, मसूर दाल के दाम में 2.54 फीसदी और गेहूं के आटे के दाम में 1.29 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली.
 
इमरान खान जब से देश के प्रधानमंत्री बने हैं, तब से लेकर अब तक पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बदतर स्थिति में ही जा रही है. पाकिस्तान की जनता लगातार महंगाई की मार झेल रही है. इमरान खान सरकार ने सत्ता संभालने के बाद देश के लोगों से नया पाकिस्तान बनाने का वादा किया था, लेकिन नए पाकिस्तान में केवल बढ़ती महंगाई का दंश महसूस हो रहा है.
 
 
First published: 3 October 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी