Home » इंटरनेशनल » Pakistan may soon hit oil gas jackpot says PM Imran Khan
 

पाकिस्तान के हाथ जल्द लगने वाला है ये बड़ा खजाना, अगर हुआ ऐसा तो दुनिया पर करेगा राज !

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 March 2019, 16:10 IST

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बर्बादी के कगार पर है. वहीं अब खबर आ रही है कि बहुत जल्द ही पाकिस्तान की किस्मत बदलने वाली है. पाकिस्तान की इमरान खान सरकार में मंत्री अब्दुल्ला हुसैन हरून का दावा है कि पाक-ईरान सीमा पर अमेरिकी कंपनी एक्सॉनमोबिल बहुत बड़े तेल भंडार की खोज के बिल्कुल करीब पहुंच गई है.

पाकिस्ता के पीएम इमरान खान ने भी इस बाबत गुरुवार को संकेत दिया था. उन्होंने संकेत दिया था कि एशिया का सबसे विशाल तेल और गैस भंडार उनके हाथ लगने वाला है. इमरान खान ने अपने देशवासियों से अपील की थी कि वे तेल भंडार की उम्मीदों को लेकर प्रार्थना करें. उनका दावा था कि तेल और गैस कंपनी ने 5000 मीटर तक की खुदाई कर ली है और तेल भंडार खोजने के प्रति तेजी से आश्वस्त है.

इमरान खान ने अपने देश के लोगों से बताया था कि भले ही तीन हफ्ते की देरी हो चुकी है. हालांकि खुदाई कर रही कंपनी से मिल रहे संकेतों की मानें तो संभावना है कि हम अपने पानी में बड़ा तेल भंडार खोज लेंगे. इसके साथ ही अब यह बात की जाने लगी है कि अगर ऐसा होता है तो पाकिस्तान दुनिया के रईस देशों में एक अलग कतार में खड़ा हो जाएगा.

इमरान खान ने दावा किया कि अगर ये विशाल तेल भंडार पाकिस्तान को मिल जाते हैं तो पाकिस्तान की सारी आर्थिक समस्याएं सुलझ जाएंगी. इसके बाद पाकिस्तान की तरक्की के रास्ते में कोई रुकावट नहीं आएगी. अनुमान है कि अगर पाकिस्तान में यह तेल भंडार खोज लिया जाता है तो पाकिस्तान दुनिया के शीर्ष 10 तेल उत्पादक देशों की सूची में शामिल हो जाएगा. 

अनुमान है कि पाकिस्तान तेल उत्पादन में कुवैत को भी पीछे छोड़ देगा. बता देें कि कुवैत दुनिया के तेल भंडार के कुल 8.4 फीसदी मात्रा का मालिक है. पाकिस्तान अभी अपनी पेट्रोलियम जरूरतों का केवल 15 फीसदी ही तेल उत्पादन करता है. इसके अलावा उसे तेल के लिए सऊदी पर निर्भर होना पड़ता है.

पाकिस्तान को फिलहाल तेल की कीमतें बढ़ने से तेल आयात पर अपने विदेशी मुद्रा भंडार का एक बड़ा हिस्सापिछले कुछ वर्षों में खर्च करना पड़ रहा है. इस वजह से पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग खाली हो चुका है. बावजूद इसके पाकिस्तान का आयात बिल पिछले वित्तीय वर्ष जुलाई-मई में 12.928 अरब डॉलर तक पहुंच गया था. 

First published: 26 March 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी