Home » इंटरनेशनल » Pakistan military spend increased says sipri report
 

कर्ज में डूबा पाकिस्तान हो चुका है कंगाल, फिर भी अपनी हरकतों से नहीं आ रहा बाज!

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2019, 13:10 IST

पाकिस्तान कभी चाइना से तो कभी सऊदी अरब से कर्ज लेने के लिए मजबूर हो जाता है. ऐसी स्थिति होने के बाद भी पाकिस्तान अपनी सैन्य खर्च को बढ़ा रहा है. स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट (SIPRI) की हाल ही में आई रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान 11.4 अरब डॉलर के सैन्य खर्च के साथ पूरी दुनिया में 20वें स्थान पर है.

स्वीडन की सिपरी संस्था के अनुसार, पाकिस्तान ने 2018 में सैन्य खर्च अपने कुल जीडीपी का चार फीसदी खर्च किया, जो 2004 के बाद से अबतक का सबसे बड़ा आंकड़ा है.

सिपरी की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान उन 10 शीर्ष देशों में शामिल है जो सैन्य बोझ के तले दबे हुए हैं. सैन्य बोझ का मतलब कुल जीडीपी में सैन्य खर्च की हिस्सेदारी से है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान 2009 के बाद से लगातार अपने सैन्य खर्च को बढ़ा रहा है.

रिपोर्ट के अनुुसार, पाकिस्तान ने 2009 से लेकर 2018 तक अपने सैन्य खर्च में 73 प्रतिशत का बढ़ावा किया है. 2017-18 में सैन्य खर्च में लगभग 11 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है.

भारत और बांग्लादेश को मिली आतंकी हमले की धमकी, पोस्टर में लिखा- बदले की प्यास अभी बुझी नहीं

बता दें कि दुनिया भर में सैन्य खर्च के मामले में यूएस सबसे आगे रहा है. यूएस अपने सैन्य में 649 अरब डॉलर खर्च करता है. हालांकि, अमेरिका ने पिछले एक दशक से अपने सैन्य खर्च में 17 फीसदी कटौती की है.

सैन्य खर्च में Top-5 देश

  • अमेरिका- 649 अरब डॉलर
  • चीन - 250 अरब डॉलर
  • सऊदी अरब - 67.6 अरब डॉलर
  • भारत - 66 अरब डॉलर
  • फ्रांस - 63.8 अरब डॉलर

क्या अब अमेरिका में सुरक्षित नहीं हैं सिख? चार सिखों की गोलियों से उड़ाई धज्जियां

बता दें कि पिछले साल अगस्त में सत्ता में आने के बाद से पाकिस्तान की इमरान की सरकार भुगतान संतुलन के संकटों का सामना कर रही है. वित्तीय संकट होने के कारण पाकिस्तानी खजाना लगभग खाली हो चुका है, इसलिए पाक प्रधानमंत्री इमरान खान सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं को पाकिस्तान में लागू करने में सफल नहीं हो सके हैं. 

नेस वाडिया को जापान में दो साल की जेल, इस IPL टीम के हैं मालिक

First published: 1 May 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी