Home » इंटरनेशनल » Pakistan new PM Imran Khan allows Hafiz Saeed organisation jamaat-ud-dawa to do charity in Pakistan
 

पाकिस्तान में इमरान खान के PM बनने के बाद आतंकी हाफिज सईद के संगठन को मिली बड़ी राहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 September 2018, 12:02 IST
(File Photo)

पाकिस्तान में इमरान खान के सत्ता संभालने के बाद आतंकी हाफिज सईद के संगठन को बड़ी राहत मिली है. पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा और उसके सहयोगी संगठन 'फलाही इंसानियत फाउंडेशन' के लिए बड़ी राहत का फैसला सुनाया है. अब ये संगठन देश में सामाजिक काम और चैरिटी का काम कर सकेगा.

हाफिज सईद के संगठन को लेकर ये फैसला पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की पीठ ने दिया है. सुप्रीम कोर्ट की इस पीठ में जस्टिस मंजूर अहमद और जस्टिस सरदार तारिक मसूद शामिल थे. गौरतलब है कि इमरान खान के प्रधानमंत्री बनने के बाद हुआ ये फैसला देश की राजनीति और अंतर्राष्ट्रीय राजनीति दोनों के मद्देनजर काफी अहम माना जा रहा है.

इसे पहले पाकिस्तान सरकार ने हाफ़िज़ सईद और उसके संगठन पर पाबंदी लगा दी थी. इंटरनेशनल मंचों ने भी हाफ़िज़ पर पहले से ही बैन लगा रखा है. लेकिन पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने इस मामले में कहा, 'हम अल्लाह के शुक्रगुजार हैं कि जिसने जमात-उद-दावा को जीत दी, जो कि लगातार मानव सेवा में जुटी है.'

गौरतलब है कि पाकिस्तान में हाफिज सईद ने 300 मदरसे, स्कूल, अस्पताल, पब्लिशिंग हाउस और एंबुलेंस सेवा का संचालन अपने संगठन को सौंपा हुआ है. उसकी इस संस्था में करीब 50 हजार लोग हैं जिन्हे वो स्वयं सेवक कह कर बुलाते हैं.

 

जियो न्यूज की मानें तो पाकिस्तान की सरकार ने जनवरी 2018 में ही हाफिज की संस्था पर बैन लगाया था. इतना ही नहीं उसकी संस्था के नाम पर चंदा देने पर भी पाबन्दी लगा दी गई थी. संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् ने ऐसे कई आतंकी संगठनों को रजिस्टर किया है. और उन पर बैन भी लगाया गया है. इनमें अल कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, लश्कर-जांघवी, जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-तैयबा, एफआईएफ समेत कई आतंकी संगठन शामिल हैं.

पाकिस्तान का सरकारी खजाना भरने के लिए PM इमरान खान करेंगे नवाज शरीफ की भैंसों की नीलामी !

 

अभी तक इन संगठनों के नाम पर चंदा लेनी और इकट्ठा करने पर भी पाबन्दी थी. लेकिन पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद हाफिज का ये संगठन पकिस्तान में कई सामाजिक कामों को करने के लिए अब स्वतंत्र है. इसके लिए हो सकता है कि उसे चंदा इकट्ठा करने की इजाज़त भी मिल जाए.

First published: 13 September 2018, 11:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी