Home » इंटरनेशनल » Pakistan PM Nawaz Sharif and Pervez Musharraf had close save during Kargil War.
 

करगिल वॉर: IAF Jaguar के हमले से ऐसे बची नवाज़ और मुशर्रफ़ की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 July 2017, 10:59 IST
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

करगिल युद्ध में पाकिस्तान को भारत ने बुरी तरह से मात दी थी. अब करगिल वॉर को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. करगिल वॉर के समय पाकिस्तान के पीएम नवाज़ शरीफ़ और तत्कालीन सेना प्रमुख परवेज़ मुशर्रफ़ की बाल-बाल जान बची थी. 

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक करगिल वॉर के समय भारतीय वायुसेना के एक जगुआर ने नियंत्रण रेखा पर उड़ान भरी थी. उसका मकसद पाकिस्तानी सेना के एक अग्रिम ठिकाने पर 'लेजर गाइडेड सिस्टम' से बमबारी करने लिए टारगेट का पता करना था. इसके ठीक पीछे आ रहे दूसरे जगुआर को इन ठिकानों पर भारी बमबारी करनी थी.

पहले जगुआर के दिखाए गए टारगेट पर दूसरे जगुआर का निशाना चूक गया और उसने 'लेजर बॉस्केट' से बाहर बम गिराया, जिससे पाकिस्तानी ठिकाना बच गया.

इंडियन एक्सप्रेस को मिले दस्तावेज के अनुसार जब भारतीय विमान पाकिस्तानी ठिकाने पर निशाना लगा रहा था, उस ठिकाने पर पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ मौजूद थे.

भारत सरकार के इस दस्तावेज में लिखा है, "24 जून को जगुआर एसीएलडीएस ने प्वाइंट 4388 पर निशाना साधा. पायलट ने एलओसी के पार गुलटेरी को लेजर बॉस्केट में चिह्नित किया, लेकिन बम सही निशाने पर नहीं गिरा क्योंकि उसे लेजर बॉस्केट से बाहर गिराया गया था."

इस दस्तावेज में बोल्ड अक्षरों में लिखा है कि बाद में इस बात की पुष्टि हुई कि हमले के समय पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ उस समय गुलटेरी ठिकाने पर मौजूद थे. दस्तावेज के अनुसार जब पहले जगुआर ने निशाना साधा, तब तक ये खबर नहीं थी कि वहां पाकिस्तानी पीएम शरीफ और मुशर्रफ मौजूद हैं. 

First published: 24 July 2017, 10:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी