Home » इंटरनेशनल » Uri attack could be a reaction of situation in Kashmir, says Nawaz Sharif
 

नवाज शरीफ की 'आतंक वाणी'- उरी हमला कश्मीर के हालात की प्रतिक्रिया हो सकता है

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 September 2016, 12:30 IST

संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर का जिक्र छेड़ने के बाद पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ की नापाक बयानबाजी का दौर जारी है. जहां एक ओर यूएन के अपने 19 मिनट के भाषण के दौरान नवाज ने एक भी बार उरी हमले का जिक्र नहीं किया, वहीं अब उरी हमले पर नवाज का बयान सामने आया है.

पाक पीएम नवाज शरीफ ने कहा, "सबूतों के बिना पाकिस्तान पर उरी हमले को लेकर दोषारोपण करना गलत है. उरी में हुआ आतंकवादी हमला कश्मीर में हालात को लेकर लोगों की 'प्रतिक्रिया' का नतीजा हो सकता है."

लंदन में नवाज शरीफ ने कहा, "उरी हमला कश्मीर में ज्यादतियों की प्रतिक्रिया हो सकता है, क्योंकि पिछले दो महीनों में मारे गए लोगों और अपनी आंखें गंवाने वाले लोगों के प्रियजन और करीबी रिश्तेदार आहत और गुस्से में हैं."

आठ जुलाई को भारतीय सेना ने मुठभेड़ के दौरान हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को मार गिराया था. (फाइल फोटो)

'पाक को जल्दबाजी में दोषी ठहराया'

नवाज शरीफ संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में हिस्सा लेने के बाद न्यूयॉर्क से लौटते वक्त लंदन में रुके थे.पाक प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने बिना किसी जांच के पाकिस्तान को जल्दबाजी में दोषी ठहरा दिया.

शरीफ ने साथ ही कहा, "भारत ने पाकिस्तान को 'बिना किसी सबूत' के जिम्मेदार ठहराकर 'गैरजिम्मेदाराना तरीके' से व्यवहार किया."

पाकिस्तानी मीडिया में नवाज शरीफ के हवाले से कहा गया, "भारत कोई जांच किए बिना उरी घटना के चंद घंटों के बाद पाकिस्तान पर आरोप कैसे लगा सकता है? 'पूरी दुनिया' कश्मीर में 'भारत के अत्याचारों के बारे में जानती है."

साथ ही शरीफ ने आठ जुलाई के बाद कश्मीर घाटी में जारी हिंसा पर कहा, "अब तक वहां करीब 108 लोग मारे जा चुके हैं और 150 लोग आंखें गंवा चुके हैं. हजारों लोग घायल हुए हैं."

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी को कश्मीर में युवाओं का नेता बताया था. यहीं नहीं शरीफ ने कश्मीर में हिंसा की संयुक्त राष्ट्र से जांच की मांग भी की थी.

जैश-ए-मोहम्मद पर उरी हमले का शक

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को सेना ने एक मुठभेड़ के दौरान आठ जुलाई को दक्षिण कश्मीर में मार गिराया था. उसके बाद से कश्मीर घाटी में हिंसक प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया. घाटी के कई इलाकों में अब भी कर्फ्यू जारी है.

18 सितंबर को उरी में सेना बटालियन मुख्यालय पर हुए आतंकी हमले में 18 जवान शहीद हो गए थे. जवाबी कार्रवाई में सेना ने चार आतंकियों को मार गिराया था. भारत ने हमले का आरोप पाकिस्तान से संचालित जैश-ए-मोहम्मद नाम के आतंकी संगठन पर लगाया है, जिसका सरगना अजहर मसूद पाकिस्तान में ही रहता है.

उरी आतंकी हमले की जांच भारतीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही है. (पीटीआई)
First published: 24 September 2016, 12:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी