Home » इंटरनेशनल » panama papers leak: police raid on mozek fonseka company
 

पनामा पेपर्स लीक: मोजेक फोंसेका पर पुलिस का छापा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

पनामा पेपर्स लीक मामले में कानूनी कंपनी मोजेक फोंसेका पर पनामा की पुलिस ने छापा मारा है.

'बीबीसी' की एक रिपोर्ट के मुताबिक अभियोजक ने कहा कि पनामा सिटी स्थित मोजेक फोंसेका के कार्यालय पर कार्रवाई की गई है.

बीते दिनों में मोजेक फोंसेका कंपनी से बड़े पैमाने पर लीक हुए दस्तावेजों में भारत सहित दुनिया के कई नामी गिरामी हस्तियों के कथित तौर पर कर चोरी के मकसद से की गई संदिग्ध आर्थिक गतिविधियों का खुलासा किया गया था.

पढ़ें: पनामा पेपर्स का असली हीरो कौन है?

इन्हीं दस्तावेजों को पनामा पेपर्स कहा जाता है. मोजेक फोंसेका ने इस मामले में कहा है कि वह किसी भी गलत गतिविधि में शामिल नहीं है और हैकिंग का निशाना बनी है.

दुनिया के सामने जो भी सूचनाएं आ रही हैं. उनमें तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जा रहा है.

वही दूसरी तरफ पनामा के राष्ट्रपति जुआन कार्लोस वरेला ने विदेशी वित्तीय गतिविधियों में पारदर्शिता बढ़ाने के लिए दूसरे देशों के साथ मिलकर काम करने का वादा किया है.

पढ़ें: क्या पनामा पेपर्स लीक के पीछे अमेरिका का हाथ है?

पुलिस ने संगठित अपराध इकाई के अधिकारियों के साथ मंगलवार को मोजेक फोंसेका कंपनी के मुख्यालय पर छापा मारा.

एटॉर्नी जनरल ने बताया कि छापे का मकसद समाचारों में प्रकाशित सूचनाओं से संबद्ध दस्तावेजों को हासिल करना था, जिनमें अवैध गतिविधियों में कंपनी की संलिप्तता बताई गई है.

एक बयान में कहा गया है कि कंपनी की सहायक इकाइयों पर भी छापा मारा जाएगा. कंपनी ने अपनी ओर से दिए बयान में कहा है कि मुख्यालय पर छापा मारने वाले अधिकारियों के साथ वह सहयोग कर रही है.

पढ़ें: पनामा पेपर्स से उपजे नौ सवाल और उनके जवाब

कंपनी से चुराए गए दस्तावेजों को पहले एक जर्मन समाचार पत्र को दिया गया, जिसने इन दस्तावेजों को अंतर्राष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ के साथ साझा किया.

इन दस्तावेजों से पता चलता है कि किस प्रकार इस कंपनी ने अपने ग्राहकों को काले धन को सफेद करने और कर चोरी करने में मदद की है.

First published: 13 April 2016, 6:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी