Home » इंटरनेशनल » Pervez musharraf: our democratic system is not well, so army interwin that
 

मुशर्रफ: पाकिस्तान में लोकतंत्र का ढांचा गड़बड़, इसलिए सेना को देना पड़ता है दखल

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 October 2016, 11:59 IST
(पीटीआई)

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि सेना ने पाकिस्तान के शासन में अक्सर अहम भूमिका निभाई है, क्योंकि देश में लोकतंत्र को इसके माहौल के अनुसार नहीं ढाला गया है.

मुशर्रफ ने यह बात 'वाशिंगटन आइडियाज फोरम' में एक साक्षात्कार के दौरान कही. उन्होंने कहा, "हमारी आजादी के बाद से सेना की हमेशा भूमिका रही है. सेना ने पाकिस्तान के शासन में बहुत अहम भूमिका निभाई है. इसका मुख्य कारण तथाकथित लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकारों का कुशासन रहा है."

जनरल मुशर्रफ के मुताबिक पाकिस्तान की मूल कमजोरी यह रही है कि इस देश में माहौल के अनुसार लोकतंत्र को नहीं ढाला गया.

मुशर्रफ ने पाकिस्तान में बार-बार हुए सैन्य तख्तापलट को सही बताते हुए कहा, "इसलिए सेना को राजनीतिक माहौल में जबरन घुसाया, खींचा जाता है, खासकर तब जब कुशासन जारी है और पाकिस्तान सामाजिक आर्थिक रूप से नीचे की ओर जा रहा है. लोग और जनता सैन्य प्रमुख की ओर भागती है और इस तरह सेना संलिप्त हो जाती है."

उन्होंने कहा कि इस वजह से पाकिस्तान में सैन्य सरकारें रही हैं और सेना का कद हमेशा उंचा रहा है.

First published: 1 October 2016, 11:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी